यह बंगाली पिक्चर नहीं है। यह मनमोहन देसाई का पिक्चर है, अमिताभ को ऐसा क्यों कहा

यह बंगाली पिक्चर नहीं है। यह मनमोहन देसाई का पिक्चर है, अमिताभ को ऐसा क्यों कहा , अमिताभ बच्चन ने अपने गोल्डन डेज़ में ऋषिकेश मुखर्जी, प्रकाश मेहरा और मनमोहन देसाई के साथ खूब काम किया। सबके अपने अपने तरीके थे और जब बच्चन उनके हिसाब से काम नहीं करते थे तो सुनना भी पड़ता था। अमिताभ बच्चन ने मनमोहन देसाई के साथ अमर अकबर एंथोनी , सुहाग , नसीब , कुली और मर्द सहित कई फिल्मों में काम किया और ये फिल्में आज भी लोगों की पसंद हैं।

हाल ही में सरकार 3 के प्रमोशन के दौरान बिग बी ने मनमोहन देसाई से जुड़ा एक किस्सा सुनाया। बच्चन ने बताया ” उन दिनों मैं ऋषिकेश मुखर्जी और मनमोहन देसाई की एक साथ फिल्में कर रहा था। एक फिल्म में एक शॉट था जिसमें मुझे मंदिर में जाकर भगवान् की मूर्ति के पैर छू कर वापस आना था। क्योंकि वह एक मंदिर था इसलिए मैं बहुत आदर के साथ मंदिर के पास पहुंचा। झुककर प्रणाम किया। तभी मनमोहन देसाई ने कट-कट कहा।

मैंने पूछा क्या हुआ मनमोहन दादा। तो उन्होंने कहा – यह बंगाली पिक्चर नहीं है। यह मनमोहन देसाई का पिक्चर है। जल्दी जा पाँव छू और वापस आ जा। मेरे पास इतना टाइम नहीं है।” अमित जी कहते हैं मन जी का ऐसा ही था। जो कुछ भी होता था, वह सब कुछ उन पर ही निर्भर होता था।

 

You might also like