67 साल की हो गईं अनुराधा पौडवाल, जन्मदिन विशेष

बॉलीवुड सिंगर अनुराधा पौडवाल का आज जन्मदिन है। वह आज 67 साल की हो गई है। अनुराधा पौडवाल की फिल्मी गायकी की शुरुआत 1973 में फिल्म ‘अभिमान’ से हुई। इस फिल्‍म में अमिताभ बच्चन और जया लीड रोल में नजर आए थे। जिसमें उन्होंने जया के लिए एक श्लोक गीत गाया था।

एक इंटरव्यू में अनुराधा ने कहा कि- सच कहूं तो मुझे जब तक कोई गाना अच्छा लगता है मैं सुनती हूं। लेकिन बुरा बस यही लगता है कि अब सारे गाने एक जैसे ही लगते हैं। हालांकि मैं इसके लिए सिंगर्स को दोषी नहीं मानती। आज के दौर में ऐसा मानते हैं कि अगर किसी का कोई गाना हिट है तो फिर वैसे ही गाना होगा।

लेकिन मुझे याद है कि जब मैं कल्याणज जी- आनंद जी के पास जाती थीं तो हमारी जरा सी आवाज हिलने पर वो हमें रिजेक्ट कर देते थे। लेकिन आज जितनी आपकी आवाज में वाइब्रेशन होगा उतना ही आप अच्छे माने जाओगे। सिगर्स में टेलेंट बहुत है लेकिन जब गाने को ही नहीं मिलेगा तो क्या करेंगे।

लता मंगेशकर और आशा भोसले के साथ विवाद

लता मंगेशकर और आशा भोसले के साथ उनके विवाद की भी खबरे आईं। इसकी वजह से वो खुद भी दूसरे संगीतकारों के रडार पर आ गईं। उस वक्त गुलशन कुमार की म्यूजिक कंपनी टी-सीरीज सबसे बड़ी कंपनी थी। हर कोई उनके साथ काम करना चाहता था। ऐसे में अनुराधा पौडवाल ने अपने करियर को ना आयाम देने के लिए गुलशन कुमार के साथ हाथ मिला लिया था और उनके लिए गाना गाने लगीं।

सफलता ने अनुराधा के ऐसे कदम चूमे कि ‘आशिकी’, ‘दिल है कि मानता नहीं’ और ‘बेटा’ जैसी फिल्मों के लिए उन्हें लगातार तीन फिल्मफेयर अवॉर्ड मिले। इस दौरान अनुराधा गुलशन कुमार की भी पसंदीदा गायिका बन गईं। हर जगह और हर मामले में वो अनुराधा पौडवाल को सपोर्ट करने लगे। इससे इंडस्ट्री में ऐसी खबरों ने आग पकड़ी कि गुलशन कुमार और अनुराधा का अफेयर है। हालांकि, इस पर किसी ने भी खुलकर कुछ नहीं कहा।

अनुराधा उसी तरह गाने गाती रहीं और जिस रफ्तार से वो आगे बढ़ ररही थीं, उसी तरह आगे बढ़ती रहीं। इससे ये लगने लगा था कि लता मंगेशकर का दौर खत्म हो गया है। खुंद कंपोजर ओपी नायर ने भी कह दिया था कि लता का दौर अब खत्म हो चुका है। अनुराधा ने उन्हें रिप्लेस कर दिया है। लेकिन, इससे भी बड़ी बात गुलशन कुमार ने कही थी। गुलशन ने अनुराधा पौडवाला से कहा कि वो उन्हें दूसरी लता मंगेशकर बनाएंगे।

अनुराधा पौडवाल का एक गलत फैसला करियर को तबाह कर गया

इसके बाद से अनुराधा ने उसी दिशा में काम करना शुरू कर दिया था। फिर अचानक एक दिन अनुराधा ने अपनी जिंदगी का एक बड़ा फैसला लिया। उन्होंने सभी को ये कहकर चौंका दिया कि अब वो सिर्फ टी-सीरीज के लिए ही गानें गाएंगी। सिंगर के इस फैसले से लोगों को लगने लगा कि गुलशन कुमार और अनुराधा के बीच अफेयर की झूठी खबरें नहीं हैं।

बेशक गुलशन कुमार की वजह से अनुराधा ने टी-सीरीज के लिए गाने का फैसला लिया हो लेकिन इससे उन्होंने अपने पैरों पर ही कुल्हाड़ी मार ली थी। क्योंकि इसके बाद टी-सीरीज से बाहर के सभी गाने अल्का याग्निक और बाकी गायिकाओं को मिल गए जबकि अनुराधा ने भजन और आरती गानी शुरू कर दी। इस वजह से अनुराधा का करियर डूब गया और कई सालों तक उन्होंने किसी फिल्म या म्यूजिक कंपनी के लिए नहीं गाया। गुलशन कुमार की मौत के बाद तो उन्होंने फिल्मी गाने गाना छोड़ ही दिए।

अनुराधा पौडवाल को सम्मान

अनुराधा पौडवाल को चार बार फिल्मफेयर अवॉर्ड (Filmfare Awards) और एक बार राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कार (National Film Award) से सम्मानित किया जा चुका है। संगीत के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारत सरकार ने साल 2017 में देश के सर्वोच्च पुरस्कारों में से एक पद्मश्री से सम्मानित किया था। अनुराधा पौडवाल की गायकी से प्रभावित होकर इंग्लैंड की संसद ने भी उनको सम्मानित किया था।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like