वहीदा रहमान ने कैसे रखा बॉलीवुड में कदम?

वहीदा रहमान ने कैसे रखा बॉलीवुड में कदम? साल 1956 में फिल्म सीआईडी आई थी। इस फिल्म से वहीदा रहमान ने बॉलीवुड में कदम रखा था। दरअसल ये फिल्म वहीदा रहमान को नहीं मिल पाती अगर गुरुदत्त की नज़र उन पर ना पड़ी होती।

दरअसर पूरा किस्सा संयोग पर आधारित है। हुआ यूं कि गुरुदत्त साहब ने वहीदा को एक तेलगू फिल्म में देखा था। वहीं पर उन्होंने वहीदा रहमान को अपनी फिल्म ;प्यासा; के लिए कास्ट कर लिया। गुरुदत्त साहब वहीदा जी की खूबसूरती और अभिनय दोनों ऑन स्क्रीन परख चुके थे लेकिन उनके दिल में एक डर था, वो ये कि तेलगू फिल्म की अभिनेत्री उनकी ड्रीम प्रोजेक्ट फिल्म ‘प्यासा’ में अपना जादू दिखा पाएगी या नहीं।

 

ये भी संयोग था कि गुरुदत्त साहब जिस वक्त अपनी फिल्म ‘प्यासा’ के लिए अभिनेत्री तलाश रहे थे, उसी वक्त उनकी एक और फिल्म ‘सीआईडी’ पर भी काम चल रहा था। गुरुदत्त ‘प्यासा’ को लेकर कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते थे। इसी दौरान उनके दिल में ख़्याल आया कि ‘प्यासा’ से पहले वहीदा को ‘सीआईडी’ में आजमाया जाए।

बस फिर क्या था, गुरुदत्त साहब ने वहीदा जी को ‘सीआईडी’ फिल्म में ‘कामिनी’ का किरदार ऑफर कर दिया। तेलगू सिनेमा में काम करते करते ही वहीदा को एक साथ दो फिल्मों के ऑफर मिल गए, पहली ‘सीआईडी’ और दूसरी ‘प्यासा’। वहीदा रहमान ने दोनों फिल्मों के लिए हां कर दी और इस तरह से तेलगू सिने जगत से वहीदा रहमान ने बॉलीवुड का रुख़ किया।

 

खैर फिल्म ‘सीआईडी’ बनी, रिलीज़ हुई और इसके साथ ही हिट भी हुई। तब जाकर गुरुदत्त खुद को समझा सके कि उन्होंने ‘प्यासा’ फिल्म के लिए सही हीरोइन को चुना है। इतना ही नहीं ‘सीआईडी’ के रिलीज़ होते ही उस दौर के युवा, वहीदा रहमान के दीवाने हो गए थे। संयोगों ने एक ऐसी कहानी बुन दी, जिसने बॉलीवुड को एक बेहतर अभिनेत्री की सौगात दे दी।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like