विदिशा श्रीवास्तव को मां पार्वती का चरित्र निभाने में मिली खुशी

विदिशा श्रीवास्तव का कहना है कि माइथोलॉजी जोनर ने उन्हें हमेशा उत्साहित किया है, और वो खुश हैं कि उनके कॅरियर के शुरूआती दौर में ही विदिशा श्रीवास्तव को देवी पार्वती का किरदार निभाने का मौका मिला।

गॉसिपगंज –  तीन महीने के लंबे अंतराल के बाद शूटिंग पर लौटकर कैसा लग रहा है?

विदिशा श्रीवास्तव – काम पर दोबारा लौटकर वाकई बहुत अच्छा लग रहा है। सबकी एनर्जी हाई है और मैं एक बार फिर धूम मचाने के लिए तैयार हूं। इसके बाद भी अगर Covid-19 अच्छे से चला जाता तो मुझे अच्छा लगता।

फिर भी लोगों से मिलना, उनसे बातें करना और सबसे बढ़कर खासकर एक नए किरदार के साथ वापसी करना, जोकि एण्ड टीवी के शो ‘कहत हनुमान जय श्रीराम‘ में देवी पार्वती का है अच्छा लग रहा है। मेरा एकमात्र ध्यान और चिंता इस नए किरदार के साथ न्याय करना और बहुत अच्छा प्रदर्शन करना था।

प्रोडक्शन टीम ने मुझे पूरा सहयोग दिया और उन्होंने मुझे शूटिंग शुरू होने से ही काफी अच्छा महसूस करवाया। हालांकि, मौजूदा स्थिति को देखते हुए, हमेशा डर बना रहता है लेकिन मुझे लगता है कि हमें कुछ समय तक इसके साथ ही जीना होगा। साथ ही न सिर्फ अपने लिए बल्कि अपने आस-पास मौजूद सभी लोगों का अत्यधिक ध्यान रखना होगा और सावधानी बरतनी होगी।

गॉसिपगंज – विदिशा श्रीवास्तव जी हमें शो में अपने किरदार के बारे में कुछ बताएं?

विदिशा श्रीवास्तव – आदि शक्ति परिभाषित न होने वाला चरित्र है ‘देवी पार्वती‘ का किरदार निभाना बहुत खास अहसास है। मैं इस भूमिका को बहुत शक्तिशाली मानती हूं क्योंकि देवी पार्वती को सुंदरता और स्नेह का प्रतीक माना जाता है।

वह एक देवी के साथ ही मनुष्य जैसी हैं; वह सभी के दर्द को महसूस करती है जो भी वह पृथ्वी पर देखती हैं, जैसा कि हम सब जानते हैं कि भगवान हनुमान भगवान शिव के अवतार थे। शो में भगवान शिव और देवी पार्वती हनुमान की कहानी सुनाते हैं। यह शो भगवान हनुमान की आकर्षक कहानी को दर्शाता है और साथ ही उनकी उत्त्पति की कहानी को बताता है।

यह दर्शकों को एक शानदार पौराणिक यात्रा पर लेकर जाता है कि अंततः कैसे बाल हनुमान भगवान राम के सबसे बड़े भक्त के रूप में उभरते हैं और रावण के आतंक के शासनकाल का सफल अंत करने के लिए पूरा प्रबंध करते हैं।

गॉसिपगंज – आपको यह भूमिका या किरदार कैसे मिला?

विदिशा श्रीवास्तव – मुझे हाल ही में इस भूमिका के लिए कास्ट किया गया था, जिसे पहले आकांक्षा रावत निभा रही थीं। जब मुझसे संपर्क किया गया तो मुझे इस पर यकीन नहीं हुआ। यह वास्तव में देवी पार्वती के आशीर्वाद के रूप में मेरे पास आया।

माइथोलाॅजी जोनर ने मुझे हमेशा उत्साहित किया है, और मैं खुश हूं कि मेरे कॅरियर के शुरूआती दौर में ही मुझे देवी पार्वती का किरदार निभाने का मौका मिला है। अमूमन ऑडिशंस और लुक टेस्ट जैसी कई प्रक्रियायें होती हैं लेकिन मैं अपने पिछले शो में देवी का किरदार अदा कर चुकी थी।

तो मुझे लगता है कि इसने मेरे पक्ष में काम किया और मुझे इस प्रतिष्ठित भूमिका के लिए सीधे कास्ट कर लिया गया।

गॉसिपगंज – क्या आपको इस भूमिका के लिए तैयारी करनी पड़ी? अगर हां, तो हमें अपनी तैयारियों के बारे में बताएं।

विदिशा श्रीवास्तव – मैंने तमिल, तेलुगु, मलयालम, कन्नड़ जैसी क्षेत्रीय भाषाओं में कई फिल्मों में  काम किया है। घर पर पौराणिक माहौल होने के कारण ठेठ बोली को अपनाना ज्यादा कठिन नहीं था। मैं वाराणसी, उत्तरप्रदेश से हूं तो हिंदी भाषा पर मेरी अच्छी पकड़ है। इसके अलावा, मैंने मेरे किरदार के बारे में काफी कुछ पढ़ा ताकि पर्दे पर हर बारीकी को बखूबी उतारा जा सके। मुझे भरोसा है कि दर्शक मेरी भूमिका में इसे जरूर देखेंगे।

गॉसिपगंज – क्या आपने शूटिंग शुरू कर दी है? आपका अनुभव कैसा रहा? आप हमें शूट पर पहले दिन के बारे में थोड़ा बताएं?

विदिशा श्रीवास्तव – हां,मैंने शूटिंग शुरू कर दी है। लाॅकडाउन के बाद शूटिंग के पहले दिन थोड़ा सा घबराई हुई थी। हरेक व्यक्ति सैनिटाइजर्स, मास्क, ग्लव्स के साथ ज्यादा सावधान थे। रेगुलर चाय के सेशन कम कर दिये गये और खाना विशेष देखभाल के साथ पैक किया गया, लेकिन हममें से ज्यादातर लोग घर का बना खाना लेकर आए। 

सेट पर सभी आवश्यक बंदोबस्त के अलावा, मैं भी अपनी सुरक्षा के लिए मेकअप किट और घर का बना हुआ खाना साथ लेकर जाती हूं। मैंने उनसे ये भी अनुरोध किया कि स्क्रिप्ट हार्डबाउंड कॉपी के बजाय ईमेल कर दी जाए।

हम सब धीरे-धीरे और लगातार इस नए नाॅर्मल में ढल रहे हैं, और समय के साथ हम सब इसके आदी हो जाएंगे। हालांकि, सेट पर वापस लौटकर सभी खुश थे। भविष्य में उचित सावधानियों के साथ धीरे-धीरे आगे बढ़ना ही नियम बन जाएगा।

गॉसिपगंज – हमें नए एपिसोड्स की कहानी के बारे में संक्षेप में बताएं।

विदिशा श्रीवास्तव – भगवान विष्णु के पृथ्वी पर भगवान राम के रूप में अवतरित होने के बाद, भगवान शिव ने भगवान हनुमान का रूप धारण किया ताकि वो दुष्ट भगवान रावण को हराने के उद्देश्य में भगवान राम की सेवा कर सकें।

भगवान हनुमान भगवान शिव के ग्याहरवें रूद्र अवतार थे। नए एपिसोड्स में माता अंजनी के माध्यम से ‘ग्यारह मुखी हनुमान‘ की कहानी को दिखाया जाएगा वो बाल हनुमान को इस कहानी के बारे में बताएंगी ताकि वे हर अवतार से कुछ सीख सकें और अपने मुख्य उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए अपनी ताकत को चैनलाइज कर सकें।

गॉसिपगंज – किन्हीं और प्रोजेक्ट्स पर भी काम कर रही हैं?

विदिशा श्रीवास्तव – हां, फिलहाल कुछ प्रोजेक्ट्स पर चर्चा चल रही है और अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। तब तक, मेरा पूरा ध्यान फिलहाल एण्ड टीवी के ‘कहत हनुमान जय श्रीराम‘ पर है।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like