फिल्म ‘डैडीज़ डॉटर’ में बेटी के लिए पिता की सोच दर्शाई गयी है: अभिमन्यु चौहान. निर्देशक अभिमन्यु चौहान, अपनी आने वाली फिल्म ‘डैडिस डॉटर’ के प्रमोशन में व्यस्त है। प्रमोशन के दौरान मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा, फिल्म ‘डैडीज़ डॉटर’ में बेटी के लिए पिता की सोच दर्शाई गयी है।

“लोगों को इस फिल्म को देखना चाहिए, इस फिल्म में बताया गया है कि, आप एक पिता के रूप में अपनी बेटी के लिए क्या महसूस कर रहे हैं और जो आपकी बेटी  समझ नहीं पा रही है।  वह इस फिल्म के जरिए समझ पाएंगे। हम फिल्म से किसी भी व्यावसायिक पहलू को नहीं जोड़ रहे  हैं क्योंकि हम फिल्म की कहानी को बाधित नहीं करना चाहते।

इसे भी पढ़िए:   19 नवंबर को कर रहे हैं राजपाल यादव अपनी बेटी की शादी, बैंक कैशियर है दामाद

“चौहान से  जब पूछा गया कि  आज  के  दौर में लोग किस तरह फ़िल्में देखना पसंद करते है तो उन्होंने कहा,’युवा और नयी पीढ़ी फिल्मों के बारे में बहुत जानकारी रखने लग गयी है।  लोग नई-नई कहानियां देखना चाहते हैं। इन चीजों को ध्यान में रखते हुए यह फिल्म बनाई गई है, फिल्म आपको आश्चर्यचकित कर देगी कि क्या ऐसी चीजें आपके जीवन में  हैं। आपका जीवन फिल्म में दिखाई देगा और जब भी मैंने किसी के साथ फिल्म के बारे में बात की तो उन्होंने हमेशा इस विषय की सराहना की और इस फिल्म के लिए एक लगाव विकसित किया।”

इसे भी पढ़िए:   ब्लाइंड डेट पर जाने के लिए तैयार बैठी हैं सोनम कपूर, सुना क्या ?

जब पूछा गया कि मुंबई में उनका कैरियर कैसा शुरू हुआ और वह पहले क्या कर रहे थे , अभिमन्यु ने कहा, “1996 में मैं लखनऊ में थिएटर कलाओं का अभ्यास कर रहा था, आखिरकार मुझे एहसास हुआ कि मैं जो काम कर रहा हूं वह सही नहीं । मैं कुछ और करना चाहता था इसलिए मैंने मुंबई जाने का निर्णय लिया। यह वह जगह है जहां रचनात्मक काम की सराहना की जाती है। मैंने अपने करियर के लिए काम करना शुरू कर दिया।” फिल्म ‘डैडीज़ डॉटर’ में पिता और बेटी संबंधों के आधार पर निर्देशित किया है। यह दर्शकों को मनोरंजन के साथ एक बहुत मजबूत संदेश देगी।

इसे भी पढ़िए:   प्रभाष की शादी को लेकर उनकी बहन का बड़ा खुलासा

LEAVE A REPLY

5 − 3 =