सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स दैनिक वेतनभोगियों को देगा 100 मिलियन रुपये

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स (एसपीएन) ने कोविड-19 महामारी के दौरान बेरोजगारी से प्रभावित फिल्म और टेलीविजन उद्योग के दैनिक वेतनभोगियों के लिये 100 मिलियन रू. देने का संकल्प किया। एसपीएन नेटवर्क के शोज पर काम करने वाले प्रत्येक दैनिक वेतनभोगी को एक महीने का वेतन भी देगा। इस पहल को संबंधित शोज के निर्माताओं के साथ ऐक्‍टीवेट किया जाएगा।

इसके अलावा, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स एसपीएन मीडिया एवं मनोरंजन (एम एंड ई) उद्योग के 50,000 दैनिक वेतनभोगियों के लिये किराना और घरेलू अनिवार्य वस्तुओं की एक महीने तक आपूर्ति में सहयोग करेगा। नेटवर्क मुंबई, नासिक और रायगढ़ में मेडिकल उपकरण और उपभोग योग्य वस्तुओं के लिये ‘स्वदेस फाउंडेशन कोविड-19 रिलीफ फंड’ में 10 मिलियन रू. का योगदान दे रहा है। नेटवर्क के सोनी पल चैनल का टैरिफ दो महीने के लिये रोक दिया गया है। पीएसए के लिये नेटवर्क की विज्ञापन सामग्री का उपयोग हो रहा है।

कोविड-19 महामारी के फैलते प्रभाव को रोकने के लिये देशव्यापी लॉकडाउन की प्रतिक्रिया में, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया (एसपीएन) ने मीडिया और मनोरंजन उद्योग में दैनिक मजदूरी करने वालों को सहयोग देने के लिये 100 मिलियन रू. के फंड का योगदान देने का निर्णय लिया है।

टेलीविजन, सिनेमा शोज और फिल्म प्रोडक्शन समेत मीडिया के पूरे इकोसिस्टम के 20 मार्च से रूक जाने के कारण मीडिया और मनोरंजन उद्योग में बेरोजगारी आ गई है। इससे खासतौर पर प्रोडक्शन क्रू के दैनिक वेतनभोगी (डेली वेज अर्नर्स) प्रभावित हुए हैं।

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स दैनिक वेतनभोगियों को उनके ट्रेड एसोसिएशंस के जरिये पहचानकर उन तक पहुँच रहा है और उन्हें निशुल्क कूपन दे रहा है, जिनका उपयोग वे और उनके परिवार चयनित रिटेल स्टोर्स पर भोजन और अनिवार्य वस्तुओं जैसी अपनी दैनिक जरूरतों के लिये कर सकते हैं। एसपीएन अपने विभिन्न कमीशंड प्रोडक्शन हाउसेस के साथ काम कर प्रत्येक दैनिक वेतनभोगी को एक माह का वेतन भी दे रहा है।

इसके अलावा, सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स ने स्वदेस फाउंडेशन द्वारा स्थापित ‘स्वदेस कोविड फंड’ में भी योगदान दिया है। ज़रीना और रॉनी स्क्रूवाला द्वारा संस्थापित यह फाउंडेशन महाराष्ट्र राज्य के मुंबई, रायगढ़ और नासिक जिलों के प्रशासन को मेडिकल उपकरण और खाद्य वस्तुएं प्रदान कर रहा है, जिनकी मुख्तारी कोविड-19 महामारी के विरूद्ध उनकी लड़ाई के लिये उनके दिशा-निर्देश के अंतर्गत हुई है। फाउंडेशन मुंबई में भी अवसंरचना, स्वास्थ्यरक्षा कर्मचारियों और स्वयंसेवियों को चयनित सरकारी और निजी अस्पतालों में खाद्य वस्तुओं से सहयोग कर रहा है।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

You might also like