मीनाक्षी कपूर जिसने अपने हुनर को ही अपना मकाम बना लिया

मीनाक्षी कपूर (Meenakshi Kapoor) एक ऐसी एक्ट्रेस हैं जिन्हें अपने हुनर के बारे में पता है। उन्होंने भले ही फिल्में में काम किया हो लेकिन उनको पता है कि उनको जाना कहां है। वो साफ कहती हैं कि मुझे तो सिर्फ डांसर बनना हैं। गॉसिपगंज ने उनसे बातचीत की ओर उन्होंने सवालों के बहुत ही मज़ेदार जवाब दिए।

मधुरेंद्र पाण्डे – मीनाक्षी कपूर जी (Meenakshi Kapoor) वैसे शुरुआत करनी है बातचीत की तो पहला सवाल तो मेरा यही होगा कि आप फिल्म इंटस्ट्री में क्यों आई। क्या वजह थी जिसने आपका रुख फिल्म इंडस्ट्री की ओर मोड़ दिया।

मीनाक्षी कपूर – मेरे घर का माहौल पूरा फिल्म था। मेरी बहन लीना कपूर इंटरटेन्मेंट इंडस्ट्री में काफी वक्त से है। मैं डांस भी अच्छा कर लेती थी। तो बस लगा कि मुझे फिल्मों में जाना चाहिए। लीना ने मेरी बहुत मदद की। उसने मुझसे कहा कि मैं फिल्मों में ट्राइ करूं। बस ऐसे ही सफर शुरु हो गया।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपकी पहली फिल्म कौन सी थी।

मीनाक्षी कपूर – देखिए अब तक मैंने एक फिल्म साउथ की है और एक पंजाबी फिल्म की है। लेकिन मेरा फोकस फिल्में नहीं हैं बल्कि डांस है।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपने साउथ और पंजाबी दोनों फिल्में की हैं। दोनों में आपको कोई फर्क लगा।

मीनाक्षी कपूर – जी बिल्कुल, पंजाबी फिल्में तो मुझे घर जैसी लगती हैं क्योंकि मेरा बैकग्राउंड पंजाबी रहा है। रही बात साउथ की फिल्मों की तो वहां लैग्वेज की प्रॉब्लम तो है। लेकिन कोई नहीं काम चल जाता है। लोग होते हैं वो मदद करते हैं। साउथ के लोग बहुत अच्छे होते हैं।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपने कहा कि आपका फोकस फिल्मों में लीड रोल नहीं बल्कि डांस है। मतलब से कि आप आइटम डांस पर फोकस करती है।

मीनाक्षी कपूर – बिल्कुल सही समझा आपने। मुझे ये पता है कि मुझे डांस आता है और अच्छा आता है तो मैं वही क्यों ना करूं। ऐसा नहीं कि मुझे एक्टिंग नहीं आती लेकिन डांस मेरा पैशन है। मैं उसके बगैर रह नहीं सकती और मुझे आइटम सॉन्ग करके ज्यादा खुशी मिलती है। वैसे भी आइटम सॉन्ग बुरा नहीं हैं। कई बड़ी बड़ी एक्ट्रेस भी आइटम सॉन्ग करती है तों मैं क्यों नहीं। मैंने डांस सीखा है। डांस जिया है और आगे भी सिर्फ डांस ही जीना चाहती हूं।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपकी बहन लीना कपूर एक्ट्रेस हैं और आप भी। क्या आप दोनों कभी कोई फिल्म एक साथ करेंगी।

मीनाक्षी कपूर – करेंगी से क्या मतलब, हम एक हिन्दी फिल्म साथ साथ कर रहे हैं। लीना लीड में है और मैं सेकेंड लीड में हूं। फायदा ये है कि इस फिल्म में भी मुझे एक आइटम सॉन्ग मिल गया है (हंसते हुए)।

मधुरेंद्र पाण्डे – आइटम सॉन्ग तो आपको मिल गया लेकिन आपने कभी सोचा है कि आगे जाकर आपको क्या करना है क्योंकि आइटम सॉन्ग तो हमेशा नहीं मिलेंगे। एक्ट्रेस के तौर पर तो आप उम्र के साथ कैरेक्टर आर्टिस्ट बन सकती हैं लेकिन आइटम सॉन्ग में तो ये मौका नहीं होता।

मीनाक्षी कपूर – उसके आगे का मैंने सोच रखा है। मैं कोरियोग्राफी का इंस्टीट्यूट खोलूंगी और लोगों को डांस सिखाऊंगी। मेरा सपना है कि मैं माधुरी दीक्षित और सरोज खान की तरह बनूं। मुझे ग्लैमर नहीं चाहिए मुझे सिर्फ मेरे डांस से मेरी पहचान चाहिए।

मधुरेंद्र पाण्डे – फिल्मों और आइटम सॉन्ग के अलावा अगर आपके पास वेब सीरिज या फिर सीरियल्स के ऑफर आते हैं तो आपने क्या सोचा है।

मीनाक्षी कपूर – अगर बैनर अच्छा हो, किरदार अच्छा हो तो मुझे वेब सीरीज और सीरियल्स करने में कोई गुरेज नहीं है।

मधुरेंद्र पाण्डे – साउथ में नॉर्थ की कई एक्ट्रेस ने अपना परचम बुलंद किया है। आप भी उत्तर भारत से हैं। क्या लगता है आपको?

मीनाक्षी कपूर – आप सही कह रहे हैं। इस वक्त साउथ से फिल्मों के लिए मुझे बहुत सारे कॉल्स आ रहे हैं। लेकिन मैंने साउथ में भी बोला है कोई आइटम सॉन्ग हो तो बताओ। वैसे फिल्मों को मना नहीं कर रही वो भी कर लूंगी। लेकिन आइटम सॉन्ग होना चाहिए।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपको नहीं लगता कि आप दोनों बहनें इंटरटेन्मेंट इंडस्ट्री में हैं तो आपस में कॉम्पटीशन हो सकता है।

मीनाक्षी कपूर –  कतई नहीं। जिस फिल्म में हम दोनों हैं अगर उस फिल्म में मेरा आइटम सॉन्ग भी हिट हो जाता है तब भी नहीं। लीना कपूर (Leena Kapoor) सिर्फ लीना कपूर नहीं बल्कि मेरी गॉड मदर है। भला गॉड मदर से कोई कॉम्पटीशन होता है कहीं।

मधुरेंद्र पाण्डे – खैर अब कुछ पर्सनल सवाल। दिन कैसे गुजारती हैं आप

मीनाक्षी कपूर – सुबह 2 से 3 घंटे रिहर्सल करती हूं। उसके बाद मीटिंग्स। अगर फिर भी वक्त मिल जाता है तो अपने डॉगी के साथ वक्त बिताना पसंद करती हूं। या फिर लीना के साथ कहीं घूमने निकल जाती हूं। हां मुझे परिवार के लोगों के बारे में बात करने में बहुत मज़ा आता है।

मधुरेंद्र पाण्डे – इतनी व्यस्तता के दरमियां आप अपने खाने पीने का ख्याल कैसे रख लेती हैं।

मीनाक्षी कपूर – मेरा ख्याल लीना (Leena Kapoor) रखती है। बहुत अच्छी कुक है और मुझे उसके हाथ का कढ़ी चावल बहुत पसंद है। बाकी वक्त चल रहा है। हम बहनें भी चल रहे हैं।

मधुरेंद्र पाण्डे – वक्त वाकई चलता रहता है। वैसे आपसे बात करके बहुत अच्छा लगा और सबसे अच्छी लगी आपकी साफगोई।

मीनाक्षी कपूर – मुझे भी आपसे बात करते बहुत अच्छा लगा। धन्यवाद।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like