अमजद खान | गब्बर सिंह की वो हकीकत जिससे आप अभी तक अंजान हैं

‘गब्बर’ कैरेक्टर के पीछे की कहानी

अमजद खान | गब्बर सिंह की वो हकीकत जिससे आप अभी तक अंजान हैं, अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र, संजीव कुमार, जया बच्चन और हेमा मालिनी स्टारर फिल्म ‘शोले’ को कौन भूल सकता है। इस फिल्म के एक-एक पात्र का डायलॉग बच्चा-बच्चा जानता है। फिल्म में जय-वीरू, बसंती, सांभा और कालिया जैसे नामों ने खूब प्रसिद्धि पाई। वहीं, फिल्म में गब्बर सिंह के कैरेक्टर ने इस फिल्म के जरिए एक इतिहास रचा। क्या आप जानते हैं, अमजद खान द्वारा निभाए गए ‘गब्बर’ कैरेक्टर के पीछे की कहानी क्या है?

50 के दशक में मध्य प्रदेश के बीहड़ों में गब्बर उर्फ गबरा नाम का एक डाकू हुआ करता था। वह बहुत खतरनाक डाकू था। दूर-दूर तक उसका आतंक फैला हुआ था। इस डाकू के सिर पर पुलिस ने उस वक्त 50 हजार रुपए का इनाम रखा हुआ था। उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान में इस डाकू को ढूंढा जा रहा था। कहा जाता है कि डाकू ने कसम खाई थी कि वह अपनी कुल देवी को खुश करने के लिए 116 लोगों की नाक काट कर उनके आगे भेंट चढ़ाएगा।

उसे एक तांत्रिक ने कहा था कि अगर वह ऐसे करता है तो पुलिस की गोली का निशाना कभी नहीं बनेगा। उस वक्त तक वह 26 लोगों की नाक काट चुका था। इनमें कुछ ऐसे लोग भी थे जो वर्दी वाले थे। यह किस्सा एक किताब में दर्ज है। केएफ रुस्तम की डायरी में इस कहानी का जिक्र है। वह 50 के दशक में मध्य प्रदेश के पुलिस महानिरीक्षक पद पर थे।

रुस्तम को डायरी लिखना बहुत पसंद था, इसलिए वह मुख्य बातों को लिखते थे। वहीं आईपीएस अधिकारी पीवी राज गोपाल ने इस किस्से को किताब की शक्ल में उतार दिया। ‘द ब्रिटिश, द बैंडिट्स एंड द बॉर्डर मैन’ किताब में इस किस्से का जिक्र है। फिल्म शोले का कैरेक्टर ‘गब्बर’ इसी कहानी से प्रेरित है। हालांकि, इस कैरेक्टर को असल कैरेक्टर से थोड़ा अलग बनाया गया। इस फिल्म के लेखक सलीम खान के जेहन में ये कैरेक्टर था, इसलिए उन्होंने इसे फिल्म की कहानी में जगह दी।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like