सेक्शन 375 फिल्म रिव्यू | क्यों सबको देखनी चाहिए ये फिल्म?

80%
Awesome
  • Gossipganj Rating

सेक्शन 375 फिल्म रिव्यू | सेक्शन 375 पर अजय बहल ने फिल्म बनाई है जिसका नाम ‘सेक्शन 375’ है।अक्षय खन्ना और ऋचा चड्ढा फिल्म सेक्शन 375 में अहम भूमिका निभाते नजर आए हैं।

फिल्म में आईपीसी की धारा 375 के इस्तेमाल के दो अलग-अलग नजरिये दिखाए गए हैं जो आखिरी तक आपको सस्पेंस के साथ बांधे रखेगा।  फिल्म बलात्कार जैसे संगीन आरोप को लेकर आईपीसी में मौजूद सेक्शन 375 के बारे में बात करती है।

भारतीय दंड सहिंता में सेक्शन 375 में महिला की सहमति के बिना बनाए गए संबंधों को कानून अपराध बताया गया है। इस धारा के अंतर्गत ये साफ तौर पर कहा गया है कि यदि कोई व्यक्ति किसी महिला से उसकी सहमति के बिना, उसकी इच्छा के बिना, या कोई झूठा वादा कर के, या फिर ऐसी स्थिति में जब महिला दिमागी रूप से सजग नहीं है, या फिर नशे के इन्फ्लूएंस में है और यदि उसकी उम्र 18 वर्ष से कम है।

ऐसी किसी भी स्थिति में किसी महिला के साथ बनाए गए यौन संबंधों को बलात्कार की श्रेणी में डाला जा सकता है। डायरेक्टर अजय बहल ने रेप जैसे सेंसिटिव मामले मामले को बेहद सधे हुए तरीके से उठाया है।

इस फिल्म की कहानी भी इसी के इर्द गिर्द घूमती है। फिल्म में ऋचा चड्ढा और अक्षय खन्ना दोनों ही वकील के किरदार में नजर आ रहे हैं। जहां एक ओर ऋचा पीड़िता के वकील के किरदार में हैं तो वही अक्षय आरोपी का केस लड़ते नजर आ रहे हैं। ये एक कोर्टरूम ड्रामा है। जिसमें महिलाओं के प्रति लगतार बढ़ रहे यौन अपराधों और बलात्कार की घटनाओं के लेकर समाझ और प्रशासन के मौन रवैये को लेकर बात की गई है।

अक्षय खन्ना पूरी फिल्म में छाए हुए हैं और बेहतरीन तरीके से अपना किरदार निभा जाते हैं। हर सीन में अक्षय आपको बेहतरीन दिखेंगे। रिचा चड्ढा ने अपने किरदार के साथ पूरा न्याय किया है और वह भी अक्षय के सामने कहीं भी कमजोर नहीं लगती हैं।

अक्षय खन्ना अपनी शानदार एक्टिंग से सभी का दिल जीतनें में कामयाब रहे। उनका एक हाई-फाई वकील का किरदार आपके दिमाग में छाप छोड़ देता है। वहीं ऋचा चड्ढा पब्लिक प्रॉसिक्यूटर के किरदार में शांत तरीके से अपनी बात सभी के सामने रखती नजर आईं।

राहुल भट जिन्होंने रोहन खुराना का किरदार निभाया एक्टिंग से इंप्रेस करने में कामयाब हुए। वहीं जज का किरदार निभाने वाले किशोर कदम और क्रुतिका देसाई के सीरियस जजमेंट के साथ पंचेज भी मारते नजर आए। फिल्म में कोर्टरुम में काफी जगह मराठी भाषा का इस्तेमाल किया गया है। इसका इस्तेमाल कम किया जाता तो लोगों को इन लाइन्स को समझने में दिक्कत नहीं होती।

सेक्शन 375 फिल्म रिव्यू करते वक्त ये ख्याल ज़रूर आया कि अब बॉलीवुड बदल रहा है। इस बदलाव का आनंद लीजिए और जाइये फिल्म देखकर आइये।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

80%
Awesome
  • Gossipganj Rating
You might also like