Browsing Category

फिल्म रिव्यू

जलेबी मूवी रिव्यू | जलेबी की तरह इश्क की मीठी दास्तान

जलेबी एक ऐसी ही लवस्टोरी है, जो प्यार के सफर पर एक अलग अंजाम तक पहुंचती है। जलेबी 2016 में आई बांग्ला फिल्म 'प्रकटन' की रीमेक है, जिसका मतलब पिछला है। इस फिल्म में डायरेक्टर पुष्पदीप भारद्वाज ने एक लवस्टोरी के माध्यम

हेलीकॉप्टर ईला मूवी रिव्यू | काजोल को देखना हो तभी फिल्म देखने की हिम्मत कीजिए

हेलीकॉप्टर ईला अपने मुद्दे से भटकी हुई फिल्म है। फिल्म का मुद्दा है कि काजोल के भीतर एक गायिका बनने की दबी ख्वाहिश जो बच्चे की पैदाइश के बाद वो सपना अधूरा रह जाता है। ‘हेलीकॉप्टर ईला’ को देखने में आपको बोरियत

तुम्बाड मूवी रिव्यू | किस्से और कहानियों से भरपूर फिल्म

तुम्बाड अपनी तरह की पहली हिंदुस्तानी फिल्म है जिसमें भूत प्रेत नहीं मगर शैतान बन चुके भगवान की एक रहस्यमयी दुनिया है। इंसान अपनी प्रगति के लिए कदम उठा सकता है मगर अगर वह लालच के अधीन हो जाए तो क्या हालात पैदा हो सकते हैं,

लवयात्री फिल्म रिव्यू | एक थकी हुई कहानी दर्शकों को भी थका देगी

लवयात्री केवल एक साधारण सी लव स्टोरी है। अपनी पहली फिल्म कर रहे आयुष और वरीना अभी ऐक्टिंग में कच्चे हैं। हालांकि स्क्रीन पर उनकी केमिस्ट्री अच्छी लगती है। फिल्म में ज्यादा कुछ भी नहीं है। डायरेक्टर अभिराज मीनावाला की यह पहली

लुप्त फिल्म रिव्यू | फिल्म में कुछ भी ऐसा नया नहीं जो देखने लायक हो

लुप्त एक सुपरनैचुरल हॉरर फिल्म है जिसकी सबसे ख़ास बात ये है कि इस फिल्म की लम्बाई 2 घंटे से भी कम है और झट से ये फिल्म ख़त्म हो जाती है क्योंकि कई बार हॉरर फिल्म डराने के चक्कर में इतनी लम्बी हो जाती हैं कि एक समय के बाद उन्हें झेलना मुश्किल…

अंधाधुन फिल्म रिव्यू | कुर्सी से चिपके रहने को मजबूर कर देती है फिल्म

अंधाधुन की कहानी कुछ हटके है। 'दृश्यम' फिल्म से आकर्षिक करने वाले डायेक्टर श्रीराम राघवन ने आयुष्मान खुराना और तब्बू के जरिए एक या दो बार नहीं बल्कि बार-बार चौंकाया है। फिल्म में आंख पर काला चश्मा लगाए आकाश की असलियत को पहचान

पटाखा मूवी रिव्यू | विशाल भारद्वाज की ये फिल्म पूरा मजा देगी

विशाल भारद्वाज की फिल्म 'पटाखा' ऐसी दो बहनों चंपा उर्फ बड़की (राधिका मदान) और गेंदा उर्फ छुटकी (सान्या मल्होत्रा) की कहानी है, जो एक दूसरे से दूर होना चाहती हैं, लेकिन किस्मत उन्हें फिर साथ ला देती है। छुटकी और बड़की बचपन से ही एक दूसरे से…

सुई धागा मूवी रिव्यू | कुछ कमियां हैं लेकिन फिर भी फिल्म अच्छी है

सुई धागा फिल्म रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म में वरूण धवन मौजी का किरदार निभा रहे हैं। मौजी हमेशा कहता है ‘सब बढ़िया है’। सच भी है मौजी की दुनिया की दुनिया रचने वाले शरत कटारिया जिन्होंने ‘दम लगा के हईशा’ जैसी खूबसूरत फिल्म बनाई थी

बत्ती गुल मीटर चालू मूवी रिव्यू | कहीं कहीं जॉली एलएलबी की याद दिलाती है

बत्ती गुल मीटर चालू सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है। शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर और यामी गौतम स्टारर इस फिल्म का काफी लंबे समय से इंतजार हो रहा था। बिजली समस्या पर आधारित इस फिल्म की कहानी उत्तराखंड के छोटे से टिहरी

मंटो फिल्म रिव्यू | मंटो को समझ नहीं पाए तो फिल्म क्यों बना डाली?

मंटो फिल्म देखने से पहले मंटो की कुछ बातें याद करनी ज़रूरी हैं। मंटो का डर सही साबित हुआ। वो कहते थे कि हो सकता है, सआदत हसन मर जाए और मंटो जिंदा रहे। आज मंटो जिंदा है। सआदत हसन मर गया। मंटो अपने अफसानों में अमर है

मित्रों फिल्म रिव्यू | कुल मिलाकर औसत मनोरंजन करती हुई फिल्म

मित्रों फिल्म रिलीज हो चुकी है लेकिन ये फिल्म वैसी नहीं है जैसी लोगों ने नाम के अनुरूप अपेक्षा की थी। ये बात अलग है कि जैकी भगनानी ने इस फिल्म में अपनी पिछली फिल्मों से बेहतर प्रदर्शन किया है और अपने किरदार को संवेदनशीलता के साथ निभाने में…