श्री श्री रविशकंर ने पद्मावत देखी, कहा विरोध की कोई वजह नहीं!

श्री श्री रविशकंर ने पद्मावत देखी, कहा विरोध की कोई वजह नहीं! आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशकंर ने फिल्म निर्माता संजय लीला भंसाली के साथ विवादित फिल्म पद्मावत सोमवार को बेंगलुरु में आर्ट ऑफ लिविंग में रखी गई स्पेशल स्क्रिनिंग के दौरान देखी। फिल्म को लेकर बहुत से संगठन विरोध कर रहे हैं, जिसमें श्री राजपूत करणी सेना शामिल है।

कुछ संगठन फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं। इसके बावजूद रविशंकर को दीपिका पादुकोण, शाहिद कपूर और रणवीर सिंह की फिल्म काफी अच्छी लगी और उन्हें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं लगा। बता दें कि फिल्म 25 जनवरी को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है।

इसे भारत के चार राज्यों- राजस्थान, हरियाणा, गुजरात और मध्य प्रदेश में  बैन कर दिया गया है। चार राज्यों के इस कदम की वजह से फिल्म निर्माता सुप्रीम कोर्ट चले गए हैं। सर्वोच्च न्यायालय 19 जनवरी को इस मामले की सुनवाई करेगा।

आध्यात्मिक गुरु ने इस बात को लेकर हैरानी जताई कि कैसे कुछ लोग पद्मावत की रिलीज का विरोध कर रहे हैं। जबकि फिल्म राजपूती सम्मान को लेकर है और यह रानी पद्मिनी को एक बेहतरीन श्रद्धांजलि देती है। उन्होंने कहा कि पद्मावत लोगों को गौरान्वित करेगी और इसे सेलिब्रेट करने की जरुरत है।

इससे पहले नवंबर में निर्माताओं ने पत्रकारों से लिए स्पेशल स्क्रीनिंग का बंदोबस्त कराया। रिपब्लिक चैनल के संपादक अरनब गोस्वामी, इंडिया टीवी के संपादक रजत शर्मा और आज तक चैनल के एंकर रोहित सरदाना सरीखे पत्रकारों को इसमें बुलाया गया था।

स्पेशल स्क्रीनिंग को लेकर सेंसर बोर्ड खफा हो गया था। बोर्ड के अध्यक्ष प्रसून जोशी ने इस पर कहा था, “बोर्ड ने अभी तक फिल्म नहीं देखी है। न ही उसे सर्टिफिकेट जारी किया गया। मगर निर्माताओं को इसकी स्पेशल स्क्रीनिंग नहीं रखनी चाहिए थी। ऊपर से चैनलों की ओर फिल्म समीक्षा किया जाना बेहद अफसोसजनक है।” जाहिर है कि पद्मावती भले ही पद्मावत हो गई हो लेकिन चिंगारी खत्म नहीं हुई है।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमेंTwitterपर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like