पलटन फिल्म रिव्यू | अनकही कहानी को कहने की बेहतरीन कोशिश

पलटन सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। फिल्म ‘पलटन’ एक सत्य घटना पर आधारित है। यह घटना भारत और चीन के बीच लाइन ऑफ ऐक्चुअल कंट्रोल पर स्थित नाथु ला दर्रे की है। यह भारत और तिब्बत के बीच जाने का एक अहम रणनीतिक रास्ता है।

यह घटना 1965 में हुई थी जब भारतीय सेना की राजपूत रेजीमेंट ने अदम्य साहस दिखाते हुए चीनी सेना को धूल चटा दी थी। यह घटना भारत और चीन के बीच हुए युद्ध के केवल 3 साल बाद हुई थी और चीन को ऐसा अंदाजा नहीं था कि उसे भारतीय सेना से ऐसा करारा जवाब मिल सकता है।

डायरेक्टर जेपी दत्ता इससे पहले ‘बॉर्डर’ और ‘एलओसी करगिल’ जैसी युद्ध आधारित देशभक्ति वाली फिल्में बना चुके हैं। नाथु ला पास पर हुई यह घटना एक छोटी झड़प से शुरू हुई थी लेकिन यही झड़प बड़ी बन गई।

इस बार भारतीय सेना सिक्किम को बचाने के लिए चीनी सेना से भिड़ जाती है। इस बार दत्ता ने यंग और अनुभवी दोनों तरह के कलाकारों को अपनी फिल्म में लिया है जो ऐसे रियल हीरोज का किरदार निभा रहे हैं हैं जिन्हें इतिहास में लगभग भुला दिया गया।

जेपी दत्ता को बॉलीवुड में वॉर फिल्मों का मास्टर कहा जाता है। हाल ही में रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के लिए इस फिल्म की एक स्पेशल स्क्रीनिंग रखी गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो सेना के अधिकारियों की ओर से फिल्म को स्टैंडिग ओवेशन मिली है। ये तीसरी दफा है जब मिलिट्री ने जेपी दत्ता को आयकॉनिक इवेंट पर फिल्म बनाने के लिए निमंत्रित किया है।

अर्जुन रामपाल ने लेफ्टिनेंट कर्नल राय सिंह और सोनू सूद ने मेजर बिशन सिंह के किरदारों को अच्छी तरह से जिया है। इनके अलावा हर्षवर्धन राणे और गुरमीत चौधरी जैसे यंग ऐक्टर्स ने भी अच्छी परफॉर्मेंस दी है।

लव सिन्हा भी अतर सिंह के किरदार में अच्छे लगे हैं जबकि सिद्धांत कपूर के पास करने के लिए कुछ खास नहीं था। फिल्म में चीनी आर्मी के जवानों का किरदार करने वालों ने अच्छी ऐक्टिंग नहीं की है। खासतौर पर कुछ-कुछ समय में उनके द्वारा ‘हिंदी-चीनी भाई भाई’ का नारा लगाया जाना और हिंदी में डायलॉग बोलना अजीब सा लगता है।

फिल्म की शूटिंग रियल लोकेशन पर हुई है और सेना के हथियारों और यूनिफॉर्म को देखकर ऐसा लगता है कि यह 1965 के समय की कहानी है। जेपी दत्ता ने ही इस फिल्म की कहानी और स्क्रीनप्ले लिखा है जो अच्छा है लेकिन जबरन ठूंसी गई आधी-अधूरी बैकस्टोरीज फिल्म को लंबा और बोझिल बनाती हैं।

फिल्म बहुत ज्यादा इमोशनल नहीं लगती है लेकिन ओवरऑल फिल्म आपको बोर नहीं करेगी। फिल्म में अच्छा ऐक्शन दिखाया गया है और फिल्म के अंत में जेपी दत्ता अपने सभी मसालों के साथ भारतीय सेना की जीत दिखाने में कामयाब होते हैं।

‘पलटन’ में जैकी श्रॉफ, अर्जुन रामपाल, हर्षवर्द्धन राणे, गुरमीत चौधरी, अब्दुल कादिर अमीन, सोनू सूद, सोनल चौहान, ईशा गुप्ता, मोनिका गिल, रोहित रॉय, सिद्धान्त कपूर, लव सिन्हा और दीपिका कक्कर ने मुख्य भूमिकाएं अदा की हैं।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like