Gossipganj.com
Film & TV News

सेंसर बोर्ड को जब वहीदा रहमान की लाल आंखों से हुई आपत्ति

सेंसर बोर्ड चाहता था कि ये सीन फिल्म से काट दिया जाए

सेंसर बोर्ड को जब वहीदा रहमान की लाल आंखों से हुई आपत्ति, अभिनेत्री वहीदा रहमान ने गुरुदत्त के निर्देशन में बनी फिल्म ‘चौदहवीं का चांद’ से जुड़ी कुछ पुरानी यादों को शेयर की है।

वहीदा बताती हैं, ‘जब ‘चौदहवीं का चांद’ फिल्म बन रही थी तब रंगीन सिनेमा नया-नया आया था लेकिन हमारी फिल्म ब्लैक ऐंड वाइट में बनी थी। जब हमारी फिल्म बहुत कामयाब हो गई तो फिल्म की टीम ने सोचा की सिर्फ फिल्म के टाइटल गाने ‘चौदहवीं का चांद’ जो बहुत मशहूर हुआ था, उसको रंगीन में फिर से शूट कर के रिलीज़ किया जाएगा तो दर्शक दोबारा देखेंगे।

जब गाना दोबारा कलर में फिल्माया जा रहा था तो उन दिनों लाइट बड़ी तेज हुआ करती थी, लाइट की गर्मी से आंखे जलने लगती थीं, इसलिए मुझे हर शॉट के पहले आंखो में बर्फ लगाना पड़ता था। बार-बार बर्फ लगाने की वजह से मेरी आंखे लाल हो गई थीं। गाना शूट हुआ और सेंसर बोर्ड में गया।’

वहीदा आगे बताती हैं, ‘गाना देखकर सेंसर बोर्ड ने कहा कि गाने में वहीदा के दो सीन काट दीजिए। गुरुदत्त ने सवाल किया कि क्यों काट दें, सीन में तो वहीदा अकेली हैं, फिर परेशानी या खराबी क्या है?

गुरुदत्त ने कहा कि उन्होंने गाने को हु-ब-हु ब्लैक ऐंड वाइट के सीन की तरह ही शूट किया है, कुछ नया नहीं जोड़ा गया है। जवाब में बोर्ड ने कहा कि दरअसल इन दो सीन में वहीदा की आंखे बहुत लाल हैं।

गुरुदत्त ने आंखे लाल होने का किस्सा बताया। तब भी बोर्ड के लोग नहीं मानें। बोर्ड का कहना था कि लाल आंखों में देखने से लगता है कि यह बहुत सेक्सी सीन है। गुरुदत्त ने बहस की और समझाया कि यह तो पति-पत्नी का सीन है, साथ में पति है तो क्या बुराई है?

बोर्ड नहीं माना और बार-बार वह सीन काटने को कहते रहे। काफी बातचीत के बाद तय हुआ कि दो सीन की जगह एक सीन काट दिया जाए। कभी-कभी सोचती हूं कि आज के जमाने में यदि सेंसर बोर्ड के वही मेंबर होते तो वह आजकल की फिल्में देखकर बेहोश हो जाएंगे।’

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।