मुबारकां, अगर फुल इंटरटेंंमेंट चाहिए तो फिल्म देखना बेहतर है

मुबारकां,  अगर फुल इंटरटेंंमेंट चाहिए तो फिल्म देखना बेहतर है , मुबारकां की शुरूआत 1990 से होती है जहां हम करण और चरण दो छोटे बच्चों को देखते हैं। उनके पैरेंट्स की मौत कार दुर्घटना में हो जाती है। करण और चरण के इकलौते चाचा कतार सिंह (अनिल कपूर) उन्हें पालते हैं लेकिन जल्द ही उन्हें समझ आता है कि ये उनसे नहीं हो पाएगा और करण को उसकी आंटी (रत्ना पाठक शाह) लंदन में पालती हैं और चरण सिंह को उसके एक और अंकल (पवन मल्होत्रा) गोद लेते हैं। इस तरह से दो जुड़वा भाई एक दूसरे के कजिन हो जाते हैं।

जुड़वा बच्चों का जन्म और कुछ गड़बड़ी दिखाने के कॉन्सेप्ट बॉलीवुड में काफी पुराना है लेकिन ये अनीस बज्मी हैं जो मजेदार कॉमेडी पर्दे पर दिखाने में कामयाब होते हैं और फिल्म आपका ध्यान खिंचने में कामयाब होती है। कई जोक्स तो फिल्म में बहुत ही फनी हैं और आप हंसते रह जाएंगे। फिल्म का फर्स्ट हाफ पूरी तरह से एंटरटेनिंग है। वहीं दूसरी ओर सेकेंड हाफ में फिल्म थो़ड़ी मेलोड्रामैटिक हो जाती है और फिल्म का क्लाइमैक्स भी और अच्छा किया जा सकता था।

अनिल कपूर फिल्म में पूरी तरह झकास लगे हैं और हंसने के कई कारण देंगे। एक बात तो पक्की है कि अनिल कपूर को और भी फिल्में करनी चाहिए क्योंकि हम उन्हें स्क्रीन पर बहुत मिस करते हैं।अर्जुन कपूर पिछले कुछ समय से अपनी एक्टिंग से नहीं इंप्रेस कर पा रहे थे लेकिन इस डबल रोल में कई मोमेंट्स हैं जब उनकी एक्टिंग नजर आ रही है वो भी खासकर आज्ञाकारी चरण के किरदार

इलियाना डिक्रूज और अर्जुन कपूर की केमेस्ट्री फिल्म में अच्छी लग रही है लेकिन इलियाना पंजाबी लहजा नहीं पकड़ पाई हैं। आथिया शेट्टी का फर्स्ट हाफ में शायद ही स्क्रीन टाइम है। फिल्म की एक्ट्रेसेस की फिल्म में कुछ खास भूमिका नहीं है। पवन मल्होत्रा और रत्ना पाठक शाह भी अपने किरदार में इंप्रेस करने में कामयाब रहे हैं।

मुबारकां लंदन और चंडीगढ़ में फिल्माया गया है और हिम्मान धामिजी ने इस बखुबी दिखाया है। रामेश्वर एस.भगत की एडिटिंग भी अच्छी है। vfx टीम की भी तारीफ करनी होगी जिन्होंने एक फ्रेम दिखाने में कोई भी गलती नहीं की है।

बहुत ही शिष्ट करण (अर्जुन कपूर) एक पंजाबी लड़की स्वीटी (इलियाना डिक्रूज) से प्यार करता है। चरण वहीं एक मुस्लिम लड़की नफीसा (नेहा शर्मा) से प्यार करता है। जल्द ही चरण का परिवार उसकी शादी बिंकल (आथिया शेट्टी) से करना चाहता है। चरण और करतार एक प्लान बनाते हैं ताकि बिंकल शादी तोड़ दे लेकिन स्थिति और भी बुरी हो जाती है और परिवार बिखरने लगता है।इस पूरे सियाप्पा में करण और चरण के बीच कई गलतफहमी हो जाती है और दोनों के लव रिलेशनशिप को बचाने की जिम्मेदारी करतार सिंह की होती है।

You might also like