मणिरत्नम | सिनेमा का महारथी

मणिरत्नम (Mani Ratnam) आज अपना 64वां बर्थडे मना रहे हैं। मणिरत्नम उन सिनेमाई जादूगरों की लिस्ट में आते हैं जिनकी कला ने लाखों-करोड़ों लोगों के दिलों में अपनी कला के दम पर जगह बनाई है। सिल्वर स्क्रीन पर जब-जब तमिल निर्देशक मणिरत्नम की फिल्में आई हैं, दर्शक टकटकी लगातर देखते रह गए।

मणिरत्नम के बारे में कितना जानते हैं आप?

मणिरत्नम की सिनेमा में अच्छी पैठ

उन्होंने तमिल से लेकर हिंदी सिनेमा तक अपनी पैठ बनाई है। मणि रत्नम के बर्थडे पर हम आपको उनकी उन 5 फिल्मों के नाम बताने वाले हैं जो हिंदुस्तानी सिनेमा के इतिहास की कल्ट मानी जाती हैं। ये फिल्में हिंदी में भी रिलीज हुई थी और इन फिल्मों ने इतिहास बना दिया था। मणिरत्नम अपने फिल्मों को लेकर बहुत चूजी हैं और जितनी फिल्में बनाई हैं उन पर लंबा रिसर्च किया है।

शायद यही वजह है कि उनकी फिल्में बॉक्स ऑफिस के सारे रिकॉर्ड तोड़ डालती हैं। अपने फिल्मी करियर की शुरुआत से ही वह तय कर चुके थे कि भले ही एक फिल्म बनाएं, लेकिन जो बनाएंगे उसमें वह अपना सबसे बेहतरीन काम करके देंगे। उन्होंने तमिल और हिंदी फिल्म जगत में चुनिंदा ही फिल्में बनाईं, लेकिन जो बनाई वो माइलस्टोन साबित हुई हैं।

मणिरत्नम का असली नाम गोपाल रत्नम सुब्रमण्यम है असली नाम

मणि रत्नम का असली नाम गोपाल रत्नम सुब्रमण्यम ह (Gopala Ratnam Subramaniam) है। उनके पूरे नाम से शायद ही लोग इन्हें जानते हैं। उनका फिल्मी दुनिया में नाम मणि रत्नम ही फेमस है।

मणि रत्नम का जन्म 2 जून 1956 को तमिलनाडु के मदुरै में हुआ था। हिंदी फिल्म इंडस्ट्रीज की बात करें तो ‘बॉम्बे’, ‘दिल से’ और ‘गुरु’ जैसी बेहतरीन फिल्में देने के लिए दर्शक उनके शुक्रगाजर हैं।

मणिरत्नम ने 1983 में शुरू किया था फिल्मी करियर

फिल्म इंडस्ट्री के दिग्गज फिल्ममेकर्स में शामिल मणि रत्नम ने फिल्मी करियर की शुरुआत अपनी पहली निर्देशित फिल्म साल 1983 में तमिल में आई ‘पल्लवी अनु पल्लवी’ से की थी।

जबकि हिंदी में उनकी पहली निर्देशित 1998 में आई फिल्म दिल से थी। इस फिल्म ने हिंदी दर्शकों के बीच उनकी पहली बार में ही ऐसी पहचान बना दी जो आज भी कायम है। इसके बाद ‘रोजा’, ‘बॉम्बे’, ‘गुरू’, ‘गीतांजलि’, ‘साथिया’, ‘युवा’  उनकी बेहतरीन फिल्में रही हैं।

मणिरत्नम पद्मश्री से नवाजे जा चुके हैं

अपनी प्रतिभा और अनूठी शैली में फिल्में बनाने वाले मणि रत्नम को 2002 में भारत सरकार ने पद्मश्री से सम्मानित किया है। यही नहीं उनकी एक नहीं कई फिल्मों का नेशनल अवार्ड मिल चुके हैं।

मणिरत्नम ने एक्ट्रेस सुहासिनी से की है शादी

मणिरत्नम की साउथ की फेमस एक्ट्रेस सुहासिनी ने 1988 में शादी की थी। दोनों की मुलाकात 1988 में हुई और कुछ समय बाद दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया था। बता दें कि दोनों का एक बेटा है नंदन भी है। मणि रत्नम अपने परिवार के साथ चेन्नई के अलवरपेट में रहता हैं और उनकी प्रोडक्शन कंपनी का नाम ‘मद्रास टॉकीज’ है।

मणिरत्नम फिल्मों में आने से पहले थे कंसल्टेंट

मणिरत्नम फिल्म इंडस्ट्रीज में अपना पैर जमाने से पहले एक कंसल्टेंट के रूप में काम किया करते थे, लेकिन उनके मन में हमेशा से फिल्मों को डायरेक्ट करने का सपना था। फिल्मों में आने से पहले वह कई छोटे-मोटे प्ले भी खुद लिखते और डायरेक्ट करते रहते थे।

उनकी पारखी नजरों को दर्शकों की नब्ज का पता था कि वे क्या देखना चाहते हैं। बता दें कि मणि रत्नम की पहली निर्देशक कन्नड़ फिल्म ‘पल्लवी अनु पल्लवी’ में अनिल कपूर और लक्ष्मी लीड रोल में थे।

मणिरत्नम को तमिल फिल्म ‘मोउना रागम’ से मिली पहचान

1986 तमिल फिल्म ‘मोउना रागम’ से मणिरत्नम को पहली बार साउथ में पहचान मिली थी। ये एक सुपरहिट फिल्म थी। इस फिल्म के लिए मणि रत्नम को नेशनल अवॉर्ड  भी मिला था। बता दें कि 1992 में मणिरत्नम की फिल्म ‘रोजा’ से ही ए.आर रहमान ने डेब्यू किया था।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

You might also like