दृष्टिहीन का किरदार निभाने के बाद रितिक का फैसला, दान करेंगे आंखें

दृष्टिहीन का किरदार निभाने के बाद रितिक का फैसला, दान करेंगे आंखें , कई किरदार कलाकारों को अमर कर देते हैं। वहीं कुछ किरदार उनके लिए प्रेरणा बन जाते हैं। फिल्म ‘काबिल’ में रितिक रोशन ने दृष्टिहीन का किरदार निभाने के बाद 10 जनवरी को अपने 43वें जन्मदिन पर गुपचुप तरीके से नेत्रदान का संकल्प लिया।

मुंबई के वडाला स्थित आदित्य ज्योत आई हॉस्पिटल के चेयरमैन डॉ. एस. नटराजन ने बताया कि दिसंबर में काबिल का ट्रेलर देखने के बाद मैंने राकेश रोशन को फोन किया। मैंने उनसे पूछा कि क्या रितिक नेत्रदान करेंगे? राकेश रोशन ने कहा कि रितिक भी इसकी योजना बना रहे हैं। रितिक से बात होने पर उन्होंने कहा वह अपने जन्मदिन पर किसी के जीवन में रोशनी भरने का संकल्प लेकर जन्मदिन को सेलिब्रेट करना चाहेंगे। उन्होंने उस समय अपने नेत्रदान को प्रचारित न करने की शर्त भी रखी।

वह इसका प्रयोग काबिल के प्रमोशन के लिए नहीं करना चाहते थे। वह चाहते थे कि फिल्म देखने के बाद लोग खुद नेत्रदान के लिए आगे आएं। रितिक हमेशा से संवेदनशील व्यक्ति रहे हैं। ‘काबिल’ के निर्माण के दौरान उनका और सहयोगी कलाकार यामी गौतम का दृष्टिबाधितों के साथ करीबी संपर्क हुआ। रितिक एनपीसीबी की रिपोर्ट के बारे में जानकर काफी व्यथित हुए।

एनपीसीबी की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2020 तक भारत में दृष्टिबाधितों की संख्या बढ़कर लगभग 1.6 करोड़ पहुंच जाएगी। इस समस्या से निपटने के लिए एक अनुमान के मुताबिक प्रति वर्ष दो लाख कार्निया की आवश्यकता है। जबकि अभी सिर्फ 30 हजार कार्निया ही एक साल में मिल पाते हैं।

डॉ. नटराजन ने बताया कि जापान और श्रीलंका में नेत्रदान करने वालों की संख्या सबसे ज्यादा है। हमारा देश आबादी के लिहाज से दूसरा सबसे बड़ा देश है। मगर नेत्रदान में वह सबसे फिसड्डी है। दुनिया में करीब 4.5 करोड़ दृष्टिहीन हैं जिनमें करीब 1.5 करोड़ भारत में हैं। जबकि 75 फीसद मामलों में दृष्टिदोष को दूर किया जा सकता है। डॉ. नटराजन ने उम्मीद जताई कि रितिक का संकल्प लोगों को नेत्रदान के लिए प्रोत्साहित करेगा।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

You might also like