Gossipganj.com
Film & TV News

रजनीकांत ने जिस युवक को पढ़ाया वही युवक उतार रहा है इस तरह से कर्ज

0

रजनीकांत का दक्षिण के सिनेमा पर ऐसा व्यापक प्रभाव है कि लोग उन्हें भगवान की तरह पूजते हैं। रजनीकांत के इस समर्थन के पीछे उनकी फिल्मों के साथ-साथ उनके द्वारा किए जाने वाले सामाजिक कार्यों का भी बड़ा हाथ है। बता दें कि रजनीकांत बिना किसी पब्लिसिटी किए सामाजिक कल्याण के काम करते रहते हैं। बीते 2 दशक के दौरान रजनीकांत ने कई लोगों की शिक्षा, चिकित्सा आदि के खर्चे उठाए हैं। ऐसे ही लोगों में शामिल है एक युवक माधी है। रजनीकांत ने बचपन में माधी की शिक्षा का खर्च उठाया था। अब माधी जब अपने पैरों पर खड़ा हो गया है तो वह अपने तरीके से रजनीकांत के एहसान को चुकाने की कोशिश कर रहा है।

दरअसल माधी, रजनीकांत के पोस्टर और बैनर डिजाइन करता है। रजनीकांत के फैन क्लब के अधिकतर सदस्य माधी से ही रजनीकांत के पोस्टर या बैनर डिजाइन कराते हैं। माधी ने कहा कि जो भी रजनीकांत ने मेरे परिवार के लिए किया उसके लिए वह हमेशा सुपरस्टार का कर्जदार रहेगा। मेरी पढ़ाई उनकी वजह से हुई, इसलिए अब मुझे उनका ये एहसान चुकाना होगा। उनके पोस्टर और बैनर बनाते हुए मुझे बहुत खुशी और गर्व महसूस होता है।

एशियाविले ने माधी से रजनीकांत के बारे में बात की। इस बातचीत की वीडियो को एशियाविले ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर पोस्ट किया है। बातचीत के दौरान माधी ने बताया कि उसका परिवार काफी गरीब है और मेरी मां रजनीकांत के घर पर काम करती थीं। रजनी सर उसकी स्कूल फीस का भुगतान करते थे। मेरे दादा एक कॉरपोरेशन वर्कर थे और रजनीकांत और जयललिता के घर वाले इलाके में सफाई का काम करते थे। (बता दें कि रजनीकांत और जयललिता का घर चेन्नई के पोएस गार्डन इलाके में है) कई बार वह रजनीकांत के घर में भी काम करते थे, इसलिए रजनीकांत कई बार उसके दादा के साथ बातचीत करते थे। हर दिवाली पर हमारी पूरा परिवार उनके घर जाता था। रजनी सर हमें मिठाई और नए कपड़े देते थे।

माधी ने बताया कि रजनीकांत को उनके पैर छूने वाले लोग बिल्कुल भी पसंद नहीं है। एक घटना को याद करते हुए माधी ने बताया कि एक दिन उनके घर के बाहर बहुत सारे लोगों की भीड़ जमा थी। वह एक बेंज कार में आए और जैसे ही कार से उतरे, कुछ लोगों ने उनके पैर छूना शुरु कर दिया। लेकिन रजनी सर ने उन्हें चेतावनी देते हुए ये सब करने से मना कर दिया।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...