Gossipganj
Film & TV News

विपिन एच सिंह, छोटे शहर से निकला फिल्मों का बड़ा सितारा

खास बातचीत

0 2,107

विपिन एच सिंह, छोटे शहर से निकला फिल्मों का बड़ा सितारा, जी हां भोजपुरी फिल्मों में अपने अभिनय का जलवा दिखा चुके विपिन एच सिंह ने ज़िंदगी के हर कदम पर एक इम्तिहान को जिया है। ज़िंदगी ने जितने अधिक विपिन सिंह एक्टर का इम्तिहान लिया वो उतने ही मजबूत होते गए। वक्त बदलता नहीं उसे बदलना पड़ता है। ये बात विपिन एच सिंह ने साबित कर दी। फिलहाल वो बॉलीवुड में अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। कुछ फिल्में हैं जो चल रही है। उनसे बात की गॉसिप गंज के एडिटर मधुरेंद्र पाण्डे ने।

मधुरेंद्र पाण्डे – विपिन जी आपका स्वागत है और साथ ही कि आपने गॉसिप गंज के लिए वक्त निकाला उसके लिए शुरुआत में ही धन्यवाद। आप एक छोटे से शहर से संबंध रखते हैं। जहां सबका सपना एक अच्छी नौकरी पर जाकर खत्म हो जाता है। आप कैसे एक्टर बनें।

विपिन एच सिंह – अरे इसमें धन्यवाद की क्या बात है (हंसते हुए)। एक्टिंग मेरा पैशन है और लोंगो से जुड़ना तो बहुत अच्छी बात है। खैर आपने एक ही सवाल में कई सवाल कर दिए हैं (मुस्कराते हुए)। रही बात मेरे एक्टर बनने की तो ऐसा नहीं है कि सबकुछ अचानक हो गए। बचपन से मैं फिल्मों का शौकीन रहा हूं। फिल्में खूब देखी हैं। खासतौर से अमिताभ बच्चन साहब की। मुझे अमिताभ बच्चन साहब की नकल उतारने में मज़ा आता था। उनके डायलॉग्स अपने दोस्तों के बीच बोलता रहता था। लेकिन कभी सोचा नहीं था कि एक दिन मैं भी एक्टिंग करने लगूंगा। मैंने गोण्डा से ही ग्रेजुएशन किया। फिर फैज़ाबाद झुनझुनवाला से एमबीए कर लिया उसके सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का कोर्स किया। तलाश तो एक अच्छी जॉब की थी। खैर पढ़ाई करने के बाद बलरामपुर शराब फैक्ट्री में लाइज़न ऑफिसर की जॉब भी मिल गई। डेढ़ साल तक नौकरी की लेकिन मन में एक कसक थी कि शायद मैं वो नहीं कर रहा हूं जो मुझे करना है। बस इस कसक ने ही मुझे विपिन सिंह एक्टर बना दिया।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपने डेढ़ साल तक नौकरी की। उसके बाद फिल्मों में आ गए।  कोई ऐसा टर्निंग प्वाइंट जो आप हमें बताना चाहें।

विपिन एच सिंह – बताना क्या है। मेरी ज़िंदगी तो खुली किताब की तरह है। कोई भी पढ़ सकता है। जैसा मैंने आपको बताया कि मुझे फिल्में देखना और उनके डायलॉग्स की नकल करना अच्छा लगता था। साल 2005 था वो जब मेरी अय्यूब खान जी से मुलाकात हुई। उन्होंने मुझसे एक बात ही कही थी जिसके बाद मैंने जॉब से रिजाइन कर दिया था। उन्होंने कहा था कि विपिन रूपये तो सब कमा लेते हैं, किसी भी तरह से लेकिन इतिहास कोई कोई ही लिखता है। बस इसके बाद नौकरी छोड़ दी। मुझे पहली फिल्म जो मिली थी उसका नाम था छैला बाबू था। इस फिल्म में मैंने एक होली के गाने में काम किया। मुझे लगा कि जैसे मुझे मेरी ज़िंदगी मिल गई हो। बस उसके बाद सफर शुरु हो गया।

मधुरेंद्र पाण्डे – बहुत सारे लोगों को नहीं पता है कि अवधी और भोजपुरी दोनों अलग अलग भाषाएं हैं। खासतौर से फिल्म इंडस्ट्री में। आप तो अवधी मूल के हैं आप इतनी अच्छी भोजपुरी कैसे बोल लेते हैं।

विपिन एच सिंह – (हंसते हुए) फंसाने वाला सवाल कर रहे हैं आप। हां मुझे भोजपुरी नहीं आती थी लेकिन मुझे भोजपुरी फिल्में मिल रही थीं। मेरी डबिंग दूसरे कर देते थे। अब तो खैर भोजपुरी आती है और अच्छी आती है। छैला बाबू में तो मैंने एक गाना किया लेकिन उसके बाद भोजपुरी फिल्मों का रास्ता मेरे लिए खुल गया। इसके बाद मैंने कंगना खनके पिया के अंगना फिल्म में काम किया। इस फिल्म में मैं मेन लीड का दोस्त बना था और इस फिल्म में मेरी मौत ही सबसे बड़ा सस्पेंस थी। विनय आनंद जी लीड में थे जो गोविंदा जी के भांजे हैं। इस फिल्म में मैंने डाक बाबू का किरदार निभाया था। इस फिल्म ने मुझे बहुत कुछ सिखाया।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपकी एक फिल्म गंगा पुत्र काफी फेमस हुई थी और दर्शकों ने उसे पसंद भी किया था। खास तौर से आपके किरदार को।

विपिन एच सिंह – जी लेकिन आपको बता दूं कि गंगा पुत्र से पहले मैंने कंगन, कलश और नाग नागिन में भी काम किया। इसमें कंगन और कलश में मैं लीड था और नाग नागिन में मेरा निगेटिव किरदार था। लेकिन गंगा पुत्र में मैंने जो निगेटिव किरदार निभाया वो लोगों के दिमाग में चढ़ गया। उस फिल्म में मेरा सीमा सिंह के साथ एक गाना था जो काफी फेमस हुआ था। जब मैं किसी को उस गाने को गुनगुनाते हुए सुनता था तो बहुत अच्छा लगता था।

मधुरेंद्र पाण्डे – आपने कभी फिल्मों के अलावा सीरियल्स में काम करने के बारे में नहीं सोचा

विपिन एच सिंह – सोचना क्या मैंने तो सीरियल्स में काम भी किया है। सीआईडी, क्राइम पेट्रोल, सास भी कभी बहू थी, इसके अलावा मैंने एक भोजपुरी सीरियल भी किया है। उदित नारायण जी का प्रोडक्शन था, सीरियल का नाम था ये रिश्ता अनमोल बा। इस सीरियल में मेरा नेगेटिव किरदार था, जिसे लोगों ने काफी सराहा था।

मधुरेंद्र पाण्डे – अब आपने बॉलीवुड की ओर कदम बढ़ाए हैं। कौन सी फिल्में हैं जिनमें आपको आपके फैन्स देख पाएंगे।

विपिन एच सिंह – बॉलीवुड फिल्मों में अभी एक है यमराज टेंशन में, इसके अलावा एक फिल्म है द स्ट्रगल ऑफ रियल लॉयन। इसमें मैं लीड रोल कर रहा हूं। ये फिल्म एक नामचीन शख्स हैं उन पर बन रही है। इसके अलावा एक भोजपुरी फिल्म भी साइन कर ली है मेहरारू ज़िंदाबाद, इसमें भी मैं हीरो हूं।

मधुरेंद्र पाण्डे – कोई ऐसा सपना या किरदार जिसे आप पर्दे पर जीना चाहते हों

विपिन एच सिंह – ऐसा कोई सपना पर्दे के लिए तो है नहीं, लेकिन हां एक सपना है जो मेरे पिता से जुड़ा हुआ है। दरअसल कैंसर से मेरे पिता श्री हलवंत सिंह जी का देहान्त साल 2004 में हो गया था। मैं उनके इलाज के लिए मुंबई ले गया था। तब उन्होंने कहा था कि हम तो यहां आ गए हैं लेकिन हमारे शहर में ना जाने कितने ऐसे होंगे तो मुंबई तक इलाज के लिए सिर्फ इसलिए नहीं पहुंच पाते हैं क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है। मेरे पिता गोण्डा में एक कैंसर अस्पताल बनवाना चाहते थे जहां सबका इलाज मुफ्त में हो सके, खासतौर से गरीबों का। पिता को गुजरे तो कई साल हो गए लेकिन आज भी मैं उनका सपना जी रहा हूं और जबतक उनके सपने को पूरा नहीं कर लेता, मुझे सुकून नहीं मिलेगा।

मधुरेंद्र पाण्डे – बहुत अच्छी सोच है आपकी। लोग आपको याद रखेंगे।

विपिन एच सिंह – याद रखने के लिए तो इतनी फिल्में की हैं। यू ट्यूब पर सैंकड़ों मेरे वीडियो हैं। लेकिन वो पर्दे का मामला है। मैं असल ज़िंदगी जीता हूं और उसे महसूस करता हूं।

मधुरेंद्र पाण्डे – चलते चलते एक सवाल अभी आपको किसी ने धमकी दी थी। वो क्या मामला था।

विपिन एच सिंह – मामला तो मुझे भी पता नहीं है। मेरे यू ट्यूब चैनल पर मेरा एक वीडियो है। गोण्डा में ही उस वीडियो को शूट किया था। बस पता नहीं कौन है उसने मुझे जान से मारने की धमकी दी मेरे ही यू ट्यूब चैनल पर। देखते हैं क्या होता है। मैं उतनी टेंशन लेता नहीं। पर इतना तय है कि मेरे चाहने वाले मेरे दुश्मनों से कई गुना ज्यादा है और उनकी दुआएं हमेशा मेरे साथ रहती हैं।

विपिन एच सिंह

विपिन एच सिंह

 

 

मधुरेंद्र पाण्डे – बहुत अच्छा लगा आपसे बात करके। अमूमन एक्टर्स ऐसे होते नहीं। उनका स्टारडम बोलता है वो नहीं लेकिन आप अपने दिल की बात करते हैं।

विपिन एच सिंह – मुझे भी आपसे बात करके अच्छा लगा। आपसे बात करते करते वक्त कैसे बीत गया पता ही नहीं चला। धन्यवाद।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...