Gossipganj
Film & TV News

करणी सेना पद्मावत के विरोध पर अड़ी, राज्य सरकारों ने खड़े किए अपने हाथ!

0 24

करणी सेना पद्मावत के विरोध पर अड़ी, राज्य सरकारों ने खड़े किए अपने हाथ! बॉलीवुड के मशहूर निर्देशक संजय लीला भंसाली की विवादित फिल्म ‘पद्मावत’ 25 जनवरी 2018 को रिलीज होनी है लेकिन अभी भी इस पर असमंजस बना हुआ है। वहीं अब गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा है कि गुजरात में फिल्म ‘पद्मावत’ रिलीज नहीं की जाएगी। एएनआई के मुताबिक गुजरात के सीएम विजय रुपाणी ने ‘पद्मावत’ की रिलीज पर पूरी तरह से बैन लगा दिया है। आपको बता दें कि फिल्म ‘पद्मावत’ को कुछ तब्दीलियां करने के बाद CBFC से रिलीज के लिए हरी झंडी मिल चुकी है।एक तरफ जहां गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने फिल्म की रिलीज पर रोक लगा दी है वहीं दूसरी तरफ करणी सेना नहीं चाहती कि फिल्म को देश के किसी भी कोने में रिलीज किया जाए। फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने के लिए देशभर में लगातार विरोध जारी है। लगातार कोशिश की जा रही है कि किसी भी तरह से फिल्म को रिलीज को रोका जा सके।

राजस्थान और मध्यप्रदेश में भी पद्मावत बैन

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने पहले ही ऐलान कर चुकी है कि राज्य में पद्मावत रिलीज नहीं होगी। गुजरात में भी फिल्म को बैन करने की घोषणा हो चुकी है वहीं इसी कड़ी में मध्यप्रदेश भी शामिल हो गया है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ऐलान किया है कि वह अपने राज्य में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। भले ही नाम बदल दिया गया हो। शिवराज सिंह चौहान ने शुक्रवार को सुबह मीडिया से कहा, जो कह दिया सो कह दिया। हम अपने यहां फिल्म रिलीज नहीं होने देंगे, तो नहीं होने देंगे। आपको बता दें कि जब पद्मावती पर कई राज्यों में विरोध हो रहा था तब भी शिवराज ने ऐलान किया था कि वह मध्य प्रदेश में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे।

केजरीवाल से पद्मावत बैन करने की मांग

पहले इस तरह की खबरें भी आई थीं कि हिमाचल सरकार ने भी फिल्म के प्रदर्शन से हाथ खींच लिए हैं। सूत्रों के मुताबिक़ सरकार नहीं चाहती कि राज्य में इस फिल्म का प्रदर्शन हो। गोवा में पुलिस ने राज्य सरकार से सिफारिश की है कि पद्मावत रिलीज नहीं की जाए। इसके पीछे गोवा पुलिस का तर्क है, यह सीजन पर्यटकों का है। ऐसे में फिल्म रिलीज होने पर हिंसा या विवाद भड़क सकते हैं। ये राज्य के पर्यटन उद्योग और कानून व्यवस्था के लिए अच्छा नहीं होगा। वहीं मुंबई पुलिस ने 26 जनवरी के मौके पर सिक्योरिटी कारणों के चलते फिल्म की रिलीज को टालने की बात की है। इस बीच करणी सेना ने दिल्ली में भी पद्मावती को बैन करने की मांग उठाई है। सेना की ओर से कहा गया है कि वो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिलकर फिल्म का प्रदर्शन रोकने की मांग करेंगे।

सेंसर बोर्ड पर करणी सेना ने उठाए सवाल

इससे पहले करणी सेना ने पद्मावत को क्लीनचिट देने के फैसले पर सेंसर बोर्ड का विरोध करने की धमकी दी है। सेना ने कहा है कि 12 जनवरी को मुंबई में सेंसर बोर्ड के ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया जाएगा। करणी सेना के कुछ नेताओं ने पूरे देश में फिल्म की रिलीज पर आपत्ति जताई है। यह भी कहा है कि अगर फिल्म रिलीज हुई तो सिनेमाघरों को जला दिया जाएगा। करणी सेना के एक नेता ने यहां तक कहा कि अगर नाम बदलने से कोई चीज बदल जाती है तो हम पेट्रोल को गंगाजल समझकर सिनेमाघरों में छिड़कर आग लगा देंगे।

सेंसर बोर्ड के दफ्तर पर करणी सेना का प्रदर्शन

आपको बता दें कि 25 जनवरी को रिलीज होने वाली फिल्म पद्मावत विवादों में घिरी है, वहीं करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को फिल्म के विरोध में सेंसर बोर्ड के ऑफिस के बाहर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं द्वारा अनुचित घटना टालने के लिए पुलिस ने उन्हें तुरंत हिरासत में ले लिया है। -राजपूत करणी सेना के राष्ट्रीय संरक्षक लोकेंद्र सिंह कालवी ने मंगलवार को कहा कि संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत पूरे देश में प्रतिबंधित होनी चाहिए।

लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा कि नोटबंदी के दौरान फिल्म बननी शुरू हुई थी, इससे यह भी सवाल उठता है कि इतना पैसा आया कहां से? उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें पाकिस्तान से भी धमकी मिली है, यह धमकी कराची में उस लोकेशन के आसपास से मिली, जहां दाऊद के होने की बात कही जाती है। उन्होंने यह भी कहा कि भंसाली के मुंह पर चांदी का जूता मारेंगे, यानी उनका आर्थिक नुकसान करेंगे। -उनका यह भी कहना है कि अब पद्मावत फिल्म को बैन करने से कुछ भी कम करणी सेना मंजूर नहीं करेगी। कालवी ने दो दिन पहले कहा, ’25 जनवरी को फिर उन्हीं तथ्यों को तोड़-मरोड़कर प्रस्तुत किया जा रहा है। यदि ऐसा हुआ तो कर्फ्यू लगा दिया जाएगा। पीएम और सेंसर बोर्ड गंभीरता से इस बात को समझें, यह जौहर की ज्वाला है, इसको छेड़ोगे तो बहुत कुछ जल जाएगा।’

इतिहास सुरक्षित नहीं तो देश सुरक्षित नहीं-करणी सेना

करणी सेना के प्रवक्ता ने कहा कि जो अपने इतिहास को सुरक्षित नहीं रख सकता वह देश को भी सुरक्षित नहीं रख सकता। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक करणी सेना के प्रवक्ता विजेंद्र सिंह कल्याणवत ने कहा है कि सरकार को इस ओर ध्यान देना चाहिए। जो अपने इतिहास को सुरक्षित नहीं रख सकते वह देश को भी सुरक्षित नहीं रख पाएंगे। प्रवक्ता विजेंद्र सिंह के अनुसार पद्मावत भारत की बेइज्जती है। फिल्म रिलीज नहीं होनी चाहिए। अगर फिल्म रिलीज नहीं होती तो मात्र 200 करोड़ रुपए का नुकसान होगा लेकिन अगर फिल्म रिलीज होती है तो वर्षों से बनी इज्जत, आत्मा और देश का गर्व नष्ट हो जाएगा।

300 कट वाली बात निकली झूठी

बता दें कि फिल्म के 25 या 26 जनवरी को रिलीज होने की चर्चा है लेकिन अभी तक भंसाली या वॉयकॉम 18 की ओर से कोई आधिकारिक बयान जारी नहीं किया गया है। कुछ ही दिन पहले सेंसर ने फिल्म की सर्टिफिकेशन प्रक्रिया पूरी होने की जानकारी दी थी। सेंसर ने इसके लिए कमेटी गठित की थी। कमेटी की सिफारिशों के बाद निर्माताओं के साथ एक मीटिंग में फिल्म में 5 जरूरी बदलाव सुझाए गए थे। ये बदलाव उन बिंदुओं पर हैं जिन्हें लेकर पिछले कई महीनों से दीपिका की फिल्म पद्मावत का विरोध किया जा रहा है। इस बीच मंगलवार को यह खबर भी सामने आई कि फिल्म में सेंसर ने 300 कट्स लगाए हैं। हालांकि कुछ ही देर बाद सेंसर चीफ प्रसून जोशी ने कट संबंधी दावे को सिरे से खारिज किया। कहा फिल्म में कोई कट नहीं कुछ बदलाव सुझाए गए थे। कुछ दिन पहले भी मीडिया को भेजे एक ई-मेल ने प्रसून ने 5 बदलाव की डिटेल का खुलासा किया था।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...