Gossipganj
Film & TV News

पद्मावती के बाद स्वरा भास्कर को खिलजी ने धो डाला | ओपेन लेटर मामला

0 65

पद्मावती के बाद स्वरा भास्कर को खिलजी ने धो डाला | ओपेन लेटर मामला, संजय लीला भंसाली की ‘पद्मावत’ के लिए करनी सेना कम थी जो अब स्वरा भास्कर ने उनकी इस फिल्म के लिए एक नया विवाद शुरू कर दिया हैं। कुछ दिनों पहले स्वरा ने भंसाली के लिए एक ओपन लैटर लिखा था। स्वरा ने फिल्म पद्मावत के एक सीन का पुरजोर विरोध किया है। उनकी माने तो फिल्ममेकर ने महिलाओं को ‘वजाइना’ के तौर पर सीमित कर दिया है। फिल्म के लास्ट सीन में दीपिका और राजपूती महिलाये जौहर की अग्नि में अपनी इज्ज़त कि खातिर अपनी जान दे देती है। स्वरा की माने तो राजपूती क्या हर महिला को रेप के बाद जिंदा रहने का हक़ है और इस फिल्म का यह आखिरी सीन काफी गलत तरीके से पेश किया गया है। स्वरा भंसाली से कहती है की सर ‘महिलाएं चलती-फिरती वजाइना नहीं हैं। स्वरा कि आवाज़ को लेकर अब हर जगह काफी  हल्ला मच रहा है। सुचित्रा कृष्णमूर्ति से लेकर जाने माने फिल्ममेकर विवेक अग्निहोत्री ने उन्हें गलत बताया है।

अब इस लिस्ट में एक नया नाम शामिल हो गया है। अब स्‍वरा भास्‍कर के ओपन लेटर पर अब दीपिका पादुकोण ने अपनी बात रखी है। डीएनए को दिए एक इंटरव्‍यू में दीपिका पादुकोण ने बताया, पद्मावती जौहर का प्रचार नहीं करती है।’ ‘मैं यह साफ कर दूं कि हम जौहर का प्रचार नहीं कर रहे हैं। आपको फिल्‍म का सीन या उससे जुड़ी प्रथा को उसी समय के संदर्भ में देखना चाहिए, जिसमें वह दिखायी जा रही हैं, और जब आप ऐसा करेंगे, तब आपको समझ आएगा कि वह कितना दमदार है।

अब फिल्म के में लीड रणवीर सिंह उर्फ़ अलाउदीन खिलजी ने स्वरा को करारा जवाब देने कि ठानी है। उन्होंने हाल ही में एक इंटरव्यू में बताया कि कल ही मुझे स्वरा की तरफ से एक मैसेज मिला था। उन्होंने फिल्म में मेरी एक्टिंग की तारीफ की थी। इसलिए….” वैसे, रणवीर का यह जवाब हमारे समझ के बाहर है लेकिन रणवीर अब पद्मावती के किसी ही विवाद को आगे बढ़ाना नहीं चाहते है। इसलिए वो अपने आप को काफी सेफ रख रहे है। वहीं, रणवीर से पहले शाहिद भी स्वरा के इस ओपन लैटर के बारे में कुछ बोलते नज़र नहीं आये। उन्होंने बताया कि स्वरा के लेटर की मुझे जानकारी है लेकिन यह लम्बा होने के कारण मैं इसे ठीक से पढ़ भी नहीं पाया हूं । मुझे नहीं पता उन्हें क्या समस्या है। शायद संजय सर से जुड़ा कोई मसला है।

Comments
Loading...