पद्मावती की प्राइवेट स्क्रीनिंग पर प्रसून जोशी की भंसाली को खरी खरी

पद्मावती की प्राइवेट स्क्रीनिंग पर प्रसून जोशी की भंसाली को खरी खरी, सेंसर बोर्ड के प्रमुख प्रसून जोशी फिल्म ‘पद्मावती’ को प्रमाण पत्र मिले बिना ही संजय लीला भंसाली द्वारा चुनिंदा लोगों के लिए इसकी स्क्रीनिंग करने से नाराज़ हैं। उन्होंने कहा कि यह एक अवसरवादी उदाहरण स्थापित करता है और फिल्म प्रमाणीकरण के मौजूदा मानदंड को नष्ट करने का प्रयास करता है।

प्रसून का मानना है कि इस तरह के कदम से सेंसर प्रमाणीकरण व्यवस्था से समझौता होता है। उन्होंने कहा कि एक तरफ सेंसर पर फिल्म को जल्द प्रमाणित करने का दबाव बनाया जा रहा है और दूसरी तरफ उस प्रक्रिया को खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है, जो एक अवसरवादी उदाहरण दर्शाता है।

सीबीएफसी द्वारा प्रमाणीकरण के बिना ‘पद्मावती’ को लौटाए जाने के बारे में प्रसून ने कहा कि इस विशेष मामले की बात करें तो समीक्षा के लिए इस फिल्म का आवेदन इसी सप्ताह आया था। निर्माता जानते हैं और उन्होंने स्वीकार भी किया है कि कागजी कार्रवाई अधूरी है।

प्रसून ने कहा कि फिल्म काल्पनिक है या ऐतिहासिक है, आवेदन पत्र में यह नहीं बताया गया है और फिल्म को प्रमाणित होने में देरी के लिए सीबीएफसी को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमेंTwitterपर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like