Gossipganj
Film & TV News

काशी इन सर्च ऑफ गंगा फिल्म रिव्यू | लड़खड़ाती हुई फिल्म

0 294
20%
Worst
  • Gossipganj Rating

काशी इन सर्च ऑफ गंगा बेसिर-पैर की लगती है और आगे जाकर खुलने वाले रहस्यों को इतना ढीला बांध गया है कि फिल्म लड़खड़ा जाती है। लेखक-निर्देशक जब तक फिल्म को तार्किक बनाने की कोशिश करते हैं, देर हो चुकी होती है। सबसे बड़ी समस्या यहां लेखन है, जिसमें हीरो की कहानी को एक-डेढ़ दशक पुराने अंदाज में कहा गया है। कहानी और सिनेमा की तकनीक आगे बढ़ चुकी है। यहां न आज का काशी है, न आज की गंगा।

सीजोफ्रेनिया यानी विखंडित व्यक्तित्व का शिकार हीरो न सहानुभूति बटोर पाता है और न जिज्ञासा जगा पाता है कि आगे क्या करने वाला है। जो हीरोइन उसे अपने पिता के हत्यारे से बदला लेने के लिए इस्तेमाल करती है, वह अंदाज बूढ़े हो चुके अमिताभ बच्चन की जवानी में निर्देशक आजमाया करते थे।

कहानी काशी (शरमन जोशी) की है, जिसे होली वाले दिन लखनऊ के अखबार की रिपोर्टर (ऐश्वर्या देवन) मिलती है और उसके प्यार में पड़ जाती है। उसके घर जाती-आती है। जहां उसके माता-पिता और बहन गंगा है। एक दिन वह फोन करके काशी से कहती है कि गंगा (प्रियंका सिंह) कॉलेज से नहीं लौटी।

गंगा के लिए परेशान काशी यहां-वहां भटकता है। कॉलेज की एक लड़की बताती है कि गंगा स्थानीय नेता बलवंत (गोविंद नामदेव) के बेटे अभिमन्यु से प्रेम करती है। वह प्रेग्नेंट है। काशी बलवंत से मिलता है, धमकाता है और जब उसे पता चलता है कि अभिमन्यु मसूरी में है तो वहां जा पहुंचता है।

फिल्म का एक बड़ा हिस्सा कोर्ट रूम में है। यह कोर्ट रूम कम और कॉमेडी रूम ज्यादा लगता है। यहां मनोज पाहवा, मनोज जोशी और अखिलेंद्र मिश्र की तिकड़ी रंग नहीं जमा पाती। गोविंद नामदेव नाम मात्र को हैं। फिल्म के संवाद, गीत-संगीत आते-जाते हैं। मन को छूते नहीं। पहले भोजपुरी फिल्में बना चुके निर्देशक धीरज कुमार प्रतिभाशाली कलाकारों को लेकर भी हिंदी डेब्यू फिल्म में असर नहीं पैदा कर पाए।

शरमन जोशी किरदार में नहीं जमते। उन्हें खूब चीखने-चिल्लाने का काम मिला परंतु उनकी आवाज में दम नहीं है। पहले ही उनका करिअर उतार पर था, काशी भी सहारा नहीं बनती। ऐश्वर्या देवन औसत हैं। लेखक-निर्देशक ने शरमन के साथ उनके रोमांस को जिस तरह बढ़ते दिखाया वह तर्कहीन और हास्यास्पद है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...