श्रीवल्लभ व्यास का निधन, जानिए उनकी अनकही कहानियां

0
66
श्रीवल्लभ व्यास

श्रीवल्लभ व्यास का निधन, जानिए उनकी अनकही कहानियां, बॉलीवुड की ब्लॉकबस्टर फिल्म रही ‘लगान’ और ‘सरफरोश’ में अपने अभिनय का लोहा मनवा चुके ऐक्टर श्रीवल्लभ व्यास का रविवार को सुबह निधन हो गया। सूत्रों के मुताबिक शाम को ही उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। 2008 में पैरालाइसिस के अटैक के बाद से ही श्रीवल्लभ व्यास बीमारी से जूझ रहे थे। श्रीवल्लभ व्यास अपने पीछे पत्नी शोभा और दो बेटियों को छोड़कर गए हैं। लंबी बीमारी के बाद 60 वर्षीय अभिनेता ने जयपुर में अंतिम सांस ली। व्यास ने लंबे समय तक थिअटर में भी काम किया था। लगान और सरफरोश उनकी भूमिकाएं छोटी ही थीं, लेकिन दर्शकों पर उन्होंने अपने अभिनय से गहरा प्रभाव छोड़ा था।

1999 में रिलीज हुई सरफरोश फिल्म में व्यास ने आईएसआई के मेजर आलम बेग की भूमिका अदा किया था। आमिर खान के लीड रोल वाली ‘लगान’ में वह गांव की क्रिकेट टीम का हिस्सा थे। इस फिल्म में वह ‘ईश्वर काका’ के फेमस किरदार में नज़र आए थे। इसके अलावा व्यास ने 1993 में आई सरदार में भी अभिनय किया था। इस मूवी में वह पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना के रोल में थे। 2003 में आई फिल्म ‘सत्ता’ में उन्होंने एक राजनेता की भूमिका अदा की थी। इसके अलावा 1999 में आई शूल में भी उनकी ऐक्टिंग को काफी सराहना मिली थी। इसके अलावा साल 2008 में आई हॉरर फिल्म ‘1920’ में भी व्यास डॉक्टर के अहम किरदार में दिख चुके हैं।

इसे भी पढ़िए:   शाहरुख खान बाल-बाल बचे, नहीं तो कुछ भी हो सकता था

अपने अभिनय करियर में व्यास ने 60 छोटी-बड़ी फिल्मों से लेकर तमाम सीरियल्स में अभिनय किया था। साल 2008 में गुजरात में एक फिल्‍म की शूटिंग के दौरान व्‍यास बाथरूम में गिर गए थे। इसके बाद वे बेहोश हो गए थे। बाद में उन्‍हें लकवा भी हो गया था। बीमारी के चलते उनके परिवार को काफी समस्‍याएं झेलनी पड़ी थी। उन्‍हें कई बार मकान बदलने पड़े थे। व्‍यास की बीमारी के चलते उन्‍हें किराए पर मकान भी नहीं मिलते थे। 2008 में पैरालाइसिस अटैक होने के बाद से वह बिस्तर पर ही थे। शुरुआती दिनों में मुंबई में इलाज कराने के बाद आर्थिक तंगी के चलते उनके परिवार ने गृह जिले जैसलमेर में ही उनके इलाज का फैसला लिया था। हालांकि बाद में जयपुर में उनका इलाज चल रहा था।

इसे भी पढ़िए:   प्लास्टिक सर्जरी करवाने के बाद श्रीदेवी के होठों का ऐसा हुआ हाल!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आर्थिक तंगी से गुजर रहे व्यास के परिवार को आमिर खान, इमरान खान और मनोज वायपेयी ने सहारा दिया। आमिर खान ने उनके इलाज से लेकर बेटियों की पढ़ाई तक की जिम्मेदारी उठाई। बता दें, व्यास ने 1991 में फिल्म इंडस्ट्री का रुख किया था। श्रीवल्लभ केतन मेहता की ‘सरदार’, शाहरुख खान के साथ ‘माया मेम साहब’, ‘वेलकम टू सज्जनपुर’, ‘सरफरोश’, ‘लगान’, ‘बंटी और बबली’, ‘चांदनी बार’ और ‘विरुद्ध’ सहित लगभग 60 फिल्मों में एक्टिंग कर चुके हैं। उन्होंने ‘आहट’, ‘सीआईडी’, ‘कैप्टन व्योम’ जैसे सीरियल में काम किया है। ‘कैप्टन व्योम’ में उनके काम को बहुत सराहा गया था।

इसे भी पढ़िए:   सोन चिरैया की शूटिंग चंबल में शुरु, सुशांत और भूमि है मुख्य भूमिका में

LEAVE A REPLY

thirteen + 20 =