शशि कपूर की एक्टिंग की इच्छा पर जब पिता पृथ्वी राज कपूर ने रख दी थी शर्त!

0
130
शशि कपूर की एक्टिंग

शशि कपूर की एक्टिंग की इच्छा पर जब पिता पृथ्वी राज कपूर ने रख दी थी शर्त! , एक लम्बी बीमारी के बाद आज अभिनेता ने अपने जुहू इलाके में स्थित घर में आख़िरी सांस ली। एक बेहतरीन अभिनेता होने के साथ-साथ वे एक बेहतरीन इंसान भी थे। शशि कपूर को उनके पिता पृथ्वीराज कपूर जितना मानते थे उससे कही ज्यादा बड़े भाई राज कपूर उन्हें प्यार करते थे। राजकपूर ने तो शशि कपूर को टेक्सी का खिताब दे रखा था।

इसे भी पढ़िए:   शबाना आज़मी की पहली मोहब्बत थे शशि कपूर, जेनिफर से शादी टूटते-टूटते बची थी

शशि कपूर बड़े भाई राज कपूर को सत्यम शिवम फिल्म के लिए समय नहीं दे पा रहे थे जबकि राज कपूर जितने जल्दी हो सके फिल्म शुरू करना चाहते थे। इस बात से नाराज़ होकर राज कपूर ने उन्हें टैक्सी का खिताब देते हुए था कि, ‘शशि एक ऐसी टैक्सी है, जिसे जब बुलाओ आ तो जाता है, लेकिन मीटर हमेशा डाउन रहता है।’ 70 के दशक में शशि कपूर बॉलीवुड पर राज कर रहे थे। एक दिन में वे कम से कम 3 या 4 फिल्मों की शूटिंग में तो पहुच ही जाते थे।

इसे भी पढ़िए:   मौत भी अनसुलझी गुत्थी बन गई ओम पुरी की, पोस्टमार्टम में खुलासा

बचपन में ही उन्होंने अपने पिता से इच्छा जताई कि उन्हें भी फिल्मों में काम करना है। पिता ने कहा कि अगर तुम थियेटर के एक नाटक में अच्छा करते ही तो तुम्हे फिल्मों में काम मिल सकता है। नाटक नाम था शकुन्तला। यानि मुश्किल से उन्हें बॉलीवुड में मौका मिला जब उन्होंने खुद को साबित कर दिया।

इसे भी पढ़िए:   8 करोड़ की रोल्स रॉयस फैंटम से चलते हैं बाहुबली प्रभास

18 मार्च 1938 को जन्मे शशि कपूर 1944 में अपना पहला अभिनय इस नाटक में किया और वाहवाही बटोरी। उसके बाद शशि को उनके पिता ने आग और आवारा में राजकपूर के बचपन का किरदार निभाने के लिए साइन किया। शशि कपूर की एक्टिंग की लोग दीवाने हो चुके थे। शशि कपूर की एक्टिंग की वजह से उनकी फीमेल फैन्स फॉलोइंग भी ज्यादा थी। जाहिर है कि आज एक बेहतरीन अभिनेता दुनिया को स्तब्ध करके चला गया।

LEAVE A REPLY

18 + 10 =