Gossipganj
Film & TV News

यौन उत्पीड़न से लगा मनोरंजन उद्योग को तगड़ा झटका, नेहा धूपिया ने कहा

0 131

यौन उत्पीड़न से लगा मनोरंजन उद्योग को तगड़ा झटका, नेहा धूपिया ने कहा, ‘मी टू’ अभियान के साथ यौन उत्पीड़न के बारे में जागरूकता फैला रहीं अभिनेत्री नेहा धूपिया का मानना है कि यह केवल मनोरंजन उद्योग से जुड़े लोगों के लिए ही नहीं, बल्कि सभी के लिए है। अभिनेत्री मे बताया है कि पीड़ितों को अपनी मुश्किल बताने में संकोच नहीं करना चाहिए, बल्कि इसके बजाय उस बारे में बोलना चाहिए, ताकि निर्दोष लोग बच सकें। नेहा ने कहा कि समाज में काफी बदलाव आ रहे हैं, फिर भी काफी कुछ किया जाना अभी बाकी है।

नेहा ने कहा, “जीवन बेहतर हो रहा है, लेकिन ऐसी चीजें हैं, जो सवाल उठा रही हैं और यह एक अच्छी बात है कि लोग इसके बारे में बात कर रहे हैं।” टीवी शोज और रेडियो शोज की मेजबानी कर चुकीं अभिनेत्री का कहना है कि उन्होंने जो कुछ भी प्राप्त किया है, उसके लिए आभारी हैं। उन्होंने कहा, “मैं सभी माध्यमों में काम करती हूं। मैं जहां हूं, बहुत खुश हूं। लेकिन हां, अधिक करने का लालच है।”

नेहा ने हॉलीवुड फिल्म निर्माता हार्वे विंस्टीन के खिलाफ लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर यह बात कही। उन पर बेन एफ्लेक, ब्रेट रटनर, चार्ली शीन, डस्टिन हॉफमैन, जेम्स टोबेक और केविन स्पेसी जैसी कई हॉलीवुड अभिनेत्रियों ने आरोप लगाए हैं। इस विवाद से दुनिया भर में मनोरंजन उद्योग को झटका लगा है।

कई अन्य कलाकारों की तरह नेहा का भी कहना है कि यौन उत्पीड़न मनोरंजन उद्योग तक ही सीमित नहीं है। उन्होंने कहा, “मैं आपसे दावे के साथ कहती हूं कि यह सिर्फ इस पेशे में ही नहीं है, बल्कि जहां भी महिला पेशेवर काम करती हैं, यह वहां हर जगह है। कोई भी इसका शिकार हो सकता है। मेरा अनुरोध है कि अगर आप पीड़ित हैं तो सामने आएं और इस पर बोलें, क्योंकि इससे आप केवल खुद को नहीं बचा रहे, बल्कि नई निर्दोष महिलाओं को भी खतरे में डालने से बचा रहे हैं।” उन्होंने कहा, “इस बारे में बात करने से आप कमजोर नहीं होते, यह आपको बहादुर बनाता है, इसलिए इस स्थिति में सहासी बनें।”

नेहा ने कहा, “महिलाओं के लिए चीजें बदल रही हैं। उन्हें सत्ता मिल रही है, और पेशेवर होने के नाते वे बहुत अच्छा कर रही हैं। उन्हें ‘सीक्रेट सुपरस्टार’, ‘तुम्हारी सुलू’ या ‘पद्मावती’ जैसी फिल्मों में भूमिकाएं मिल रहीं, जो महिलाओं के इर्द-गिर्द घूमती हैं। यहां कई फिल्में हैं, जिन्हें नाम दे सकते हैं और जीवन काफी लिंग तटस्थ हो रहा है।” उन्होंने कहा, “यह बेहतर हो रहा है, लेकिन दुर्भाग्य से ‘मी टू’ का सवाल है और हार्वे विंस्टीन भी हैं।”

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...