Gossipganj
Film & TV News

अधूरे पूरे से हम | वैवाहिक बलात्कार के मुद्दे को टटोलती फिल्म

अधूरे पूरे से हम की लोग कर रहे हैं तारीफ

0 117

अधूरे पूरे से हम | वैवाहिक बलात्कार के मुद्दे को टटोलती फिल्म, फिल्म निर्माता मृगांक दुबे की फिल्म अधूरे पूरे से हम की सभी प्रशंसा कर रहे हैं, और निर्देशक का कहना है कि फिल्म वैवाहिक बलात्कार के विश्वव्यापी मुद्दे पर बनाई गई हैं। अधूरे पूरे से हम की स्पेशल स्क्रीनिंग के दोरान मीडिया से बातचीत करते हुए मृगांक ने बताया की उन्हें कांन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में अपनी फिल्म दिखाने का इनविटेशन आया हैं, जो की वैवाहिक बलात्कार जैसे विश्वव्यापी मुद्दे पर आधारित हैं।

मृगांक में बताया, “मेरे लिए यह सम्मान की बात हैं की मेरी फिल्म कांन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित की जा रही है और उससे भी ज्यादा, मुझे खुशी है कि लोग इस वैवाहिक बलात्कार मुद्दे के महत्व को समझ रहे हैं, क्योंकि यह एक विश्वव्यापी मुद्दा है, और लोग इस फिल्म से रिलेट कर रहे हैं! हमने इस फिल्म के लिए दुनिया के विभिन्न हिस्सों, जैसे मेक्सिको, कोलकाता और लॉस एंजिल्स, सभी जगहों पर पुरस्कार जीते हैं, इसका मतलब यही हैं की लोग इससे रिलेट कर रहे हैं!”

मृगांक दुबे ने कहा, “अधूरे पूरे से हम, दो पात्रों की कहानी है, जो एक दुसरे से प्रेम करते हैं और फीलिंग्स भी रखते हैं, लेकिन वैवाहिक बलात्कार के ज्वनशील मुद्दे पर भी बात करते हैं। इस फिल्म ने ना केवल भारत में बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लगभग 27 पुरस्कार जीते है और अभी कई फिल्म फेस्टिवल में भी जाने वाली हैं!

मुझे फिल्म की स्क्रीनिंग के लिए कांन्स इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल से निमंत्रण मिला है और 16 मई को इसे इस फेस्टिवल में प्रदर्शित किया जाएगा और मैं इसको लेकर बहुत खुश हूं। यह फिल्म हर इंसान की कहानी दिखाती है, खासकर उन लोगों की जिन्हें इस मुद्दे का अनुभव है। हमें आये दिन समाचार पत्रों, टेलीविजन और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वैवाहिक बलात्कार के बारे में पता चलता ही रहता हैं, इसे रोकने के लिए कानून बनाया गया है, लेकिन भारत में हमें ऐसा कुछ दिखाई नहीं देता, और मुझे लगता हैं यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और गलत है।”

फिल्म में प्रमुख अभिनेता प्रियम्वदा सावंत और पवन शंकर के साथ काम करने के  अनुभव के बारे में बात करते हुए, मृगांक बोले, “दोनों कलाकारों ने इस फिल्म में वास्तव में बहुत अच्छा काम किया है। प्रियम्वदा तो अपने करैक्टर में इतना घुस गई की मुझे उसके घर जाकर उससे बात करनी पड़ी, क्योंकि जब मैंने फोन पर उससे बात की तो मुझे लगा कि वह अभी भी उस किरदार से बाहर नहीं निकल पाई हैं, जिसे उन्होंने फिल्म में निभाया था। अगर एक निर्देशक के रूप में मेरी ज़िम्मेदारी उन्हें करैक्टर में ढालना हैं, तो यह भी मेरी ज़िम्मेदारी है कि मैं उन्हें उस करैक्टर से बाहर निकलने में मदद करू”

‘अधूरे से पुरे हम’ ने कई सर्वश्रेष्ठ शोर्ट फिल्म अवार्ड जीते हैं, जैसे माइंडफिल्ड फिल्म फेस्टिवल, एनवाईसी इंडी फिल्म पुरस्कार, एलऐ शॉर्ट्स पुरस्कार, हॉलीवुड हिल्स फिल्म अवार्ड्स और बहुत सारे। ‘अधूरे से पुरे हम’ को मृगांक दुबे ने डायरेक्ट किया हैं, लव कल्ला ने इसे लिखा हैं, और केतकी गुहागारकर सुर्वे ने इसे प्रोडूस किया हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...