Gossipganj.com
Film & TV News

आवाज़ ही जिसकी पहचान बन गई, रानी मुखर्जी एक अलग अंदाज़, अलग आवाज़

0

आवाज़ ही जिसकी पहचान बन गई, रानी मुखर्जी एक अलग अंदाज़, अलग आवाज़ , आज रानी मुखर्जी का जन्मदिन है। अपनी स्माइल और ठसक भरी आवाज़ से रानी ने अपनी एक अलग पहचान बनायीं। अपने करियर में उन्होंने एक से बढ़कर एक की हैं और फ़िल्मों के अलावा निजी वजहों से भी हमेशा चर्चा में बनी रही हैं।रानी ने 1996 में अपनी मां के कहने पर अपने करियर की शुरुआत बंगाली फ़िल्म ‘बियेर फूल’ से की। यह फ़िल्म उनके पिता ने ही बनाई थी। बाद में यही फ़िल्म हिंदी में ‘राजा की आएगी बारात’ (1997) के नाम से बनाई गई जिसमें रानी ने लीड रोल किया।

21 अप्रैल 2014 को रानी ने निर्माता निर्देशक आदित्य चोपड़ा से शादी की। उनकी शादी बॉलीवुड के शोर शराबे से दूर पेरिस में एक व्यक्तिगत समारोह में परिवार के कुछ सदस्यों की मौजूदगी के बीच संपन्न हुई। 9 दिसंबर 2015 को रानी की लाइफ में उनकी बेटी ‘अदीरा’ आयीं। रानी अपनी बेटी से बहुत प्यार करती हैं।

रानी को पहचान मिली साल 1998 में रिलीज हुई फ़िल्म ‘कुछ कुछ होता है’ से। इस फ़िल्म में टीना मल्होत्रा का किरदार पहले ट्विंकल खन्ना को ऑफर किया गया था। ट्विंकल के मना करने के बाद यह रोल रानी मुखर्जी के हिस्से में आया और बाद में यही रानी के जीवन का टर्निंग पॉइंट साबित हुआ। हालांकि, उसी साल आयी फ़िल्म ‘ग़ुलाम’ से भी उन्होंने काफी सुर्खियां पायीं। ‘ऐ क्या बोलती तू… ‘ गीत तो उस दौर में सबके जुबां पर चढ़ गया था।

रानी मुखर्जी का जन्म 21 मार्च 1978 को मुंबई (महाराष्ट्र) में हुआ था। उनके परिवार में कई लोग इंडस्ट्री से ताल्लुक रखते थे। जहां एक तरफ उनके पिता राम मुखर्जी एक जाने-माने डायरेक्टर थे तो वहीं उनकी मां कृष्णा मुखर्जी एक प्लेबैक सिंगर थीं। रानी का भाई राजा मुखर्जी भी इंडस्ट्री से जुड़े हुए हैं। क्या आप जानते हैं फेमस डायरेक्टर अयान मुखर्जी और ऐक्ट्रेस काजोल भी रानी के कज़िन ही हैं। आइये रानी मुख़र्जी के बर्थडे पर जानते हैं।

साल 2000 के दौरान रानी ने ‘बादल’, ‘बिच्छू’, ‘हे राम’, ‘हर दिल जो प्यार करेगा’ , ‘कहीं प्यार ना हो जाए’ जैसी फ़िल्में भी की लेकिन बॉक्स ऑफिस पर ये सभी फ्लॉप साबित हुईं। लेकिन, अच्छी बात यह रही कि उनकी फ़िल्म ‘हे राम’ उस साल भारत की तरफ से ऑस्कर के लिए भेजी गई ऑफिशियल फ़िल्म बनी।

साल 2003 में ही रानी ऐश्वर्या राय को फ़िल्म ‘चलते चलते’ में रिप्लेस किया था, और उस फ़िल्म को भी काफी सराहना मिली। साल 2004 में रानी फ़िल्म ‘युवा’ और ‘वीर जारा’ में महत्वपूर्ण भूमिका में दिखीं। गौरतलब है कि, युवा, ब्लैक और ‘नो वन किल्ड जेसिका’ के लिए रानी को फिल्मफेयर पुरस्कार भी दिए जा चुके हैं। बता दें, उससे पहले साथिया के लिए रानी को उस साल का बेस्ट एक्ट्रेस (क्रिटिक) का फिल्मफेयर अवार्ड भी दिया गया था।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Loading...