जवानों में जोश जगाएगा अर्श देओल का म्यूज़िक सिंगल

मुंबई : फ़िल्म “बिन फेरे फ्री में तेरे” से चर्चाओं में आए अर्श देओल इस बार जवानों में जोश पैदा करने वाला म्यूज़िक लेकर आए हैं जिसका नाम है “दे भेंटा पुत्रां दी”। अचानक संगीत की दुनिया में कदम रखते हुए अर्श ने यह साबित करने की कोशिश की है कि दर्शकों का मनोरंजन करने के साथ साथ उनका दायित्व उन शूरवीरों के प्रति भी है जो जान हथेली पर रखकर देश की रक्षा में जुटे रहते हैं और जिनमें कई देश के लिए कुर्बान भी होते हैं।

कुर्बानी तो सिखों के दशम गुरु गुरू गोबिंद सिंह जी के साहिबज़ादों ने भी दी थी जिनके शहीदी दिवस को ही समर्पित करते हुए सिंगर, एक्टर और डायरेक्टर अर्श देओल ने यह जोशीला गीत तैयार किया है जिसकी निर्माता हैं गुरचरण कौर।

गीत में यह दर्शाया गया है कि कुछ सैनिक बॉर्डर पर जाने से पहले गुरुद्वारा साहेब माथा टेकने जाते हैं। दर्शन के समय उन्हें पता चलता है कि आज गुरू गोबिंद सिंह के साहिबज़ादों का शहीदी दिवस है।

यह पता चलते ही आर्मी के सूबेदार कुलविंदर सिंह(अर्श देओल) के सामने इतिहास का वो पन्ना आ जाता है जब दिसम्बर 1704 में गुरू जी ने मानवता की लड़ाई लड़ी। जहां एक तरफ 40 सिख गुरू साहेब और उनके दो बड़े बेटे अजीत सिंह और

जुझार सिंह जी थे और दूसरी तरफ दस लाख मुगल्स। जंग में गुरु साहेब जी की जीत हुई। गुरू जी द्वारा अपने परिवार की दी गई कुर्बानियों को देखकर सारी सृष्टि कांप उठी थी। आज भी हम उनकी कुर्बानियों को याद कर जोश से भर जाते हैं। ऐसा ही कुछ इन सैनिकों के साथ होता है जब कुलविंदर सिंह उनकी इस वीरगाथा को गाता है और सभी सैनिकों को जोश से भर देता है।

गीत को सुनकर सभी जंग की तैयारी शुरू कर देते हैं। बता दें कि अर्श देओल की पहचान भले ही एक अभिनेता के तौर पर हो लेकिन इस म्यूज़िक सिंगल के जरिये वह गायक और निर्देशक के रूप में भी सामने आए हैं।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like