Gossipganj.com
Film & TV News

बाबूजी ने सिखाया किसी भी समारोह में जाओ तो last row में बैठना

बाबूजी ने सिखाया किसी भी समारोह में जाओ तो last row में बैठना , अमिताभ बच्चन का एक बेहद मशहूर डायलॉग है, आप सबने सुना होगा- ‘हम जहां खड़े होते हैं, लाइन वहीं से शुरू होती है।’ फ़िल्म ‘कालिया’ के इस डायलॉग को आज भी मुहावरे की तरह इस्तेमाल किया जाता है। ये वो एटीट्यूड है, जो बिग बी को पर्दे पर मिला, मगर रियल लाइफ़ वो लाइन के अंतिम छोर पर रहना पसंद करते हैं, क्योंकि ये नसीहत अमिताभ को उनके बाबूजी से मिली है।

तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि पूरा हॉल खाली है। ये तस्वीरें कार्यक्रम के शुरू होने से पहले या ख़त्म होने के बाद की हैं। ये भी ज़ाहिर सी बात है कि अमिताभ किसी समारोह में मौजूद होंगे, तो कोई उन्हें आख़िरी पंक्ति में नहीं बैठने देगा, मगर फुर्सत के पलों में ली गई इन तस्वीरों के ज़रिए अमिताभ ने अपने पिता से मिली सीख को लोगों तक पहुंचा दिया है। इससे पता चलता है कि उनकी नसीहतों का बिग बी की लाइफ़ में कितना गहरा असर है।

अमिताभ बच्चन अक्सर अपने पिता कवि डॉ. हरिवंश राय बच्चन की बातों को शेयर करते रहते हैं। अमिताभ ने ट्वीटर पर कुछ तस्वीरें शेयर की हैं, जो किसी समारोह की हैं। इन तस्वीरों में अमिताभ आख़िरी पंक्ति की सीट पर बैठे दिख रहे हैं। एक तस्वीर में वो कुछ डिस्कस करते भी नज़र आ रहे हैं। इन तस्वीरों के साथ अमिताभ ने लिखा है- ‘बाबूजी ने सिखाया किसी भी समारोह में जाओ तो last row में बैठना… क्योंकि वहां से उठाए गए तो आगे की सीट पे ही जाएंगे।’