अनुष्का शर्मा और आलिया भट्ट को फिल्मों में रेप सीन करने में होती है तकलीफ

अनुष्का शर्मा और आलिया भट्ट को फिल्मों में रेप सीन करने में होती है तकलीफ , आलिया भट्ट, सोनम कपूर और अनुष्का शर्मा ने इस बात को नकार दिया कि फिल्मों में रेप या मोलेस्टेशन के सीन टेक्निकली शूट होते हैं। उन्होंने कहा कि इस तरह के सीन को शूट करना उनके लिए काफी डरावना रहा है। इन तीनों एक्ट्रेसेज ने साल 2016 में अपनी फिल्मों में जबर्दस्त परफॉर्मेंस दिया है। इन एक्ट्रेसेज ने उड़ता पंजाब, सुल्तान और नीरजा में अपना बेहतरीन योगदान दिया है। ये सभी राजीव मसंद के साथ राउंडटेबल डिसक्शन में हिस्सा ले रही थीं।

अनुष्का शर्मा और आलिया भट्ट को फिल्मों में रेप सीन करने में होती है तकलीफ

अनुष्का के बयान से सहमत होते हुए आलिया ने भी उड़ता पंजाब के दौरान गैंग रेप की शूटिंग वाले सीन का अनुभव शेयर किया। उन्होंने कहा- सच बताऊं तो यह कभी भी ग्राफिक नहीं होता है। लेकिन मुझे याद है उड़ता पंजाब में रेप सीन की शूटिंग के दौरान सेट्स पर आपको टेक्निकली समझाया जाता है। तुम यहां रहोगी फिर ये होगा, फिर हम ऐसा करेंगे और फिर तुम चिल्लाओगी। यह सुनकर मैं सोचने लगी- मैं यह करुंगी। क्या मैं इसके लिए इस वजह से ओके हूं क्योंकि यह एक्टिंग है। लेकिन हकीकत में चल रहा था कि यह सीन जल्दी खत्म हो। मैं जल्दी इससे उबर सकूं। आमतौर पर शूटिंग के लिए मैं बहुत एक्साइडिट रहती हूं लेकिन पहली बार सेट्स पर जाते समय डर लग रहा था। ऐसा मेरे साथ पहले कभी नहीं हुआ। लेकिन अपने कमरे से बाहर निकलते समय मेरे मन में खौफ रहता था और वापस जाते समय मैं बहुत खुश होती थी। हालांकि मैं अपने काम से बहुत प्यार करती हूं लेकिन ऐसी परिस्थिती में काम करना थोड़ा अजीब लगता है। सबसे ज्यादा अजीब बात यह थी कि आपको सेट्स पर कूल दिखना होता था।

अनुष्का शर्मा और आलिया भट्ट को फिल्मों में रेप सीन करने में होती है तकलीफ

अनुष्का ने कहा कि एनएच10 की शूटिंग के दौरान वो डिप्रेशन में चली गई थीं। एनएच10 के मोलेस्टेशन वाले सीन को करने के बाद मैं डिप्रेशन में चली गई थी। लेकिन उस समय आप असली दिखना चाहते हो। खासतौर पर एनएस10 जैसी फिल्मों में आपको पता नहीं होता कि कैमरा किस तरफ है। ऐसे में आपको रियल दिखना होता है। उस समय मैं बिल्कुल ठीक थी लेकिन उसके बाद अगले दो दिन तक परेशान रही। मुक्के मारने, पेट में लात मारना आदी से मैं सोचले लगी कि इंसान ऐसा कैसे कर सकते हैं। अखबार पढ़ने के अलावा हम जिंदगी में उस हद तक एक्सपोज नहीं हुए हैं लेकिन उस तरह के सीन शूट करना काफी डरावना होता है।

You might also like