कोरोना वायरस पर अभिषेक प्रताप सिंह का धमाकेदार गाना | Go Corona Go

कोरोना वायरस को लेकर सभी सेलेब्स फैन्स को काफी जागरुक कर रहे हैं। कोई रैप कर रहा है तो कोई इस पर गाना बना रहा है। एक आवाज़ और है जो काफी दमदार तरीके से लोगों के सामने आई है और लोग उनके कोरोना वायरस गाने को पसंद कर रहे हैं। वो हैं अभिषेक प्रताप सिंह जो पेशे से बिजनेसमैन हैं। समाज सेवा से काफी वक्त से जुड़े हैं और इसी समाज सेवा के दौरान उनके मन की टीस उनके गीतों में उभर कर सामने आ गई।

गॉसिपगंज – अभिषेक जी आपको कोरोना पर गाना बनाने का आइडिया कैसे आया।

अभिषेक प्रताप सिंह – मैं काफी वक्त से समाज सेवा से जुड़ा हुआ हूं। जब से कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन हुआ है तब से इस काम में और तेज़ी आई है। लोग परेशान हैं। उनके पास पैसे नहीं हैं। खाना नहीं है। मैं उनकी ज़रूरतें पूरी करने की कोशिश करता हूं। जाहिर है कि जब आप ऐसे लोगों से मिलते हैं तो कहीं ना कहीं दिल को तकलीफ होती है कि समाज के इस हिस्से पर लोगों की नज़र क्यों नहीं जाती। उनकी तकलीफ उनका डर जो कोरोना वायरस को लेकर बना हुआ है। आत्मा दुखी धी। लगता था लोगों के साथ गलत हो रहा है। वो सारी चीज़ें इकट्ठा होती रहीं।

गॉसिपगंज – तो उनकी तकलीफ को कम करने और उनके डर को एक हिम्मत देने के लिए आपने ये गाना तैयार किया।

अभिषेक प्रताप सिंह – आप कह सकते हैं। दरअसल आस्था गिल के पिता ने मुझसे कहा कि जब तुम इतना कर रहे हो। लोगों के खाने पीने से लेकर हर मुश्किल में उनके साथ हो तो इसको लयबद्ध करने की कोशिश करो। बस उसके बाद मैं अपने काम पर लग गया और उसका रिजल्ट इस खूबसूरत गाने के तौर पर सामने आ गया।

गॉसिपगंज – आपने कोरोना वायरस सॉन्ग के ज़रिए कैसा मैसेज देने की कोशिश की है। मतलब आप समाज को क्या संदेश देना चाहते हैं।

अभिषेक प्रताप सिंह –  देखिए ऊपर वाला बहुत गुस्से में हैं। देश विदेश हर जगह विपदाएं आ रही हैं। हमें लोगों को जगाना है। हमें ये बताना है कि अब भी कुछ बिगड़ा नहीं है हालात सुधर सकते हैं। ईश्वर की शऱण में जाना होगा। इस वीडियो में करीब 30 सेलिब्रिटीज़ भी शामिल हुए हैं। बस यूं समझिए कि मेरी तो कोशिश है अब जो जाग गया सो जाग गया।

गॉसिपगंज – आप गाते इतना अच्छा हैं। लिखते इतना अच्छा है कभी बॉलीवुड का रुख करने की कोशिश नहीं की।

अभिषेक प्रताप सिंह –  मैंने करीबन 100 150 गाने लिखे हैं। जिन लोगों ने उसे सुना है वो उसकी तारीफ करते हैं। लेकिन मेरे ऊपर एक नहीं बल्कि कई परिवारों की ज़िम्मेदारी है और अगर मैं बॉलीवुड में कोशिश करूं तो फुलटाइम करना होगा अगर ऐसा करूंगा तो मेरे बिज़नेस में दिक्कत आएगी। सैंकड़ों हज़ारों लोग हैं जो मेरे साथ काम करते हैं। मुझे उनके परिवार का भी ख्याल रखना है।

गॉसिपगंज – चलिए अच्छा आपको कोई बॉलीवुड में कोई ऑफर दे तब आप क्या करेंगे।

अभिषेक प्रताप सिंह –  अभी तो मैं इस काम के लिए तैयार नहीं हूं। रही बात फ्यूचर की तो वो देखा जाएगा। अगर मौका मिलेगा तो कोशिश की जाएगी लेकिन अभी नहीं।

गॉसिपगंज – कोरोना वायरस पर आपका गाना लोग पसंद कर रहे हैं। इस गाने की जो आत्मा है उसके पीछे आप किसको क्रेडिट देना पसंद करेंगे।

अभिषेक प्रताप सिंह –  इस गाने का पूरा क्रेडिट उन लोगों को है जिन्हें देखकर मुझे ये गाना लिखने की प्रेरणा मिली। जाहिर सी बात है कि कोरोना वायरस की वजह से जो लोग भूखे हैं। जिनके पास खाने को रोटी नहीं थी। उनके चेहरे ही मेरी प्रेरणा हैं और इस गाने का पूरा क्रेडिट भी उन्हीं को है।

गॉसिपगंज – बहुत शानदार कहा आपने। वैसे हम अपने पाठकों को बता दें कि अभिषेक प्रताप सिंह सामाजिक कार्यों से जुड़े हुए हैं। लोग कहते हैं कि बिजनेसमैन समाज को लेकर बहुत संवेदनशील नहीं होता लेकिन अभिषेक प्रताप सिंह इसके अपवाद हैं औऱ लखनऊ शहर के काफी लोग इसके गवाह भी हैं। अभिषेक जी आपसे बात करके अच्छा लगा। धन्यवाद।

अभिषेक प्रताप सिंह –   शुक्रिया आपका।

मनोरंजन की ताज़ातरीन खबरों के लिए Gossipganj के साथ जुड़ें रहें और इस खबर को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें Twitter पर लेटेस्ट अपडेट के लिए फॉलो करें।

You might also like