बिरयानी पर प्रतिबंध चाहते हैं कमल हसन, जानिए वजह , कमल हसन कभी भी अपनी बातों को खुल कर कहने से हिचकिचाते नहीं हैं , फिर चाहे उनकी बात को लेकर कितना भी बड़ा बवाल हो। अब कमल हसन ने बैलों की परंपरागत दौड़ ‘ जल्लीकट्टू ‘ को लेकर कड़ा बयान दिया है। साल 2014 सुप्रीम कोर्ट ने पशु क्रूरता बताते हुए परंपरागत खेल पर बैन लगा दिया था।

इसे भी पढ़िए:   अर्चना वेद शास्त्री को दक्षिण के एक सुपर स्टार ने सेक्स के लिए ऑफर किया था

इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने जल्लीकट्टू पर प्रतिबन्ध के खिलाफ दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका को भी खारिज कर दिया था। अदालत ने कहा था कि पुरानी परंपरा होने का मतलब उसका क़ानून सम्मत होना नहीं है।गौरतलब है कि तमिलनाडु की फेमस ‘ जल्लीकट्टू ‘ परम्परा पर सुप्रीम कोर्ट ने बैन लगा दिया था। सोमवार को एक इंटरव्यू में कमल हसन ने कहा कि जिन्हें भी लगता है कि ये परंपरा जानवरों के खिलाफ क्रूरता है , उन्हें बिरयानी पर भी प्रतिबन्ध लगा देना चाहिए।

इसे भी पढ़िए:   मराठी फिल्म इंडस्ट्री पर सुल्तान मेहरबान, अब तो निकल पड़ी धड़ल्ले से

कमल ने बताया कि वो जल्लीकट्टू के बहुत बड़े फैन हैं और कई बार बैलों की दौड़ के इस उत्सव में हिस्सा ले चुके हैं। कमल हसन ने इससे पहले भी कई बार जल्लीकट्टू पर बैन लगाए जाने का विरोध किया है। उन्होंने जल्लीकट्टू को स्पेन के फेमस बुल-फाइटिंग खेल के सामान बताये जाने को भी गलत ठहराते हुए कहा कि स्पेन में बैलों की लड़ाई में जान जाती है लेकिन तमिलनाडु में बैलों को भगवान का दर्जा दिया जाता है।

इसे भी पढ़िए:   सोनू सूद खुद बनाएंगे मराठी फिल्म, कभी किया था मराठी फिल्म में काम करने से इंकार

 

LEAVE A REPLY

1 + 13 =